श्री कुबेर जी आरती - जय कुबेर स्वामी (Shri Kuber Aarti, Jai Kuber Swami)

जय कुबेर स्वामी,

प्रभु जय कुबेर स्वामी,

हे समरथ परिपूरन ।

हे समरथ परिपूरन ।

हे अन्तर्यामी ॥

ॐ जय कुबेर स्वामी

प्रभु जय कुबेर स्वामी..



जय कुबेर स्वामी,

प्रभु जय कुबेर स्वामी,

हे समरथ परिपूरन । -x2

हे अन्तर्यामी ।

॥ ॐ जय कुबेर स्वामी..॥

प्रभु जय कुबेर स्वामी..



विश्रवा के लाल इदविदा के प्यारे,

माँ इदविदा के प्यारे,

कावेरी के नाथ हो । -x2

शिवजी के दुलारे ।

॥ ॐ जय कुबेर स्वामी..॥

प्रभु जय कुबेर स्वामी..



मनिग्रवी मीनाक्षी देवी,

नलकुबेर के तात,

प्रभु नलकुबेर के तात

देवलोक में जागृत । -x2

आप ही हो साक्षात ।

॥ ॐ जय कुबेर स्वामी..॥

प्रभु जय कुबेर स्वामी..



रेवा नर्मदा तट

शोभा अतिभारी

प्रभु शोभा अतिभारी

करनाली में विराजत । -x2

भोले भंडारी ।

॥ ॐ जय कुबेर स्वामी..॥

प्रभु जय कुबेर स्वामी..



वंध्या पूत्र रतन और

निर्धन धन पाये

सब निर्धन धन पाये

मनवांछित फल देते । -x2

जो मन से ध्याये ।

॥ ॐ जय कुबेर स्वामी..॥

प्रभु जय कुबेर स्वामी..



सकल जगत में तुम ही

सब के सुखदाता

प्रभु सब के सुखदाता

दास जयंत कर वन्दे । -x2

जाये बलिहारी ।

॥ ॐ जय कुबेर स्वामी..॥

प्रभु जय कुबेर स्वामी..



जय कुबेर स्वामी,

प्रभु जय कुबेर स्वामी,

हे समरथ परिपूरन ।

हे समरथ परिपूरन ।

हे अन्तर्यामी ॥

ॐ जय कुबेर स्वामी

प्रभु जय कुबेर स्वामी..

आरती सरस्वती जी: ओइम् जय वीणे वाली (Saraswati Om Jai Veene Wali)

भजन: मेरो कान्हा गुलाब को फूल (Mero Kanha Gulab Ko Phool)

दुर्गा है मेरी माँ, अम्बे है मेरी माँ: भजन (Durga Hai Meri Maa Ambe Hai Meri Maa)

हिरण्यगर्भ दूधेश्वर ज्योतिर्लिंग प्रादुर्भाव पौराणिक कथा! (Hiranyagarbh Shri Dudheshwarnath Mahadev Utpatti Pauranik Katha)

जग में सुन्दर है दो नाम... (Jag Main Sundar Hain Do Naam)

भजन: शिव शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धार हुआ (Shiv Shankar Ko Jisne Pooja)

सौराष्ट्रे सोमनाथं - द्वादश ज्योतिर्लिंग: मंत्र (Saurashtre Somanathan - Dwadas Jyotirlingani)

तुम बिन मोरी कौन खबर ले गोवर्धन गिरधारी: श्री कृष्ण भजन (Tum Bin Mori Kaun Khabar Le Govardhan Girdhari)

पत्नीं मनोरमां देहि - सुंदर पत्नी प्राप्ति मंत्र (Patni Manoraman Dehi)

प्रेरक कथा: नारायण नाम की महिमा! (Prerak Katha Narayan Nam Ki Mahima)

करती हूँ तुम्हारा व्रत मैं - माँ संतोषी भजन (Karti Hu Tumhara Vrat Main)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 21 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 21)