भजन: बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया (Brij Ke Nandlala Radha Ke Sanwariya)

बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया,

सभी दुःख दूर हुए, जब तेरा नाम लिया ।



मीरा पुकारी जब गिरिधर गोपाला,

ढल गया अमृत में विष का भरा प्याला ।

कौन मिटाए उसे, जिसे तू राखे पिया,

सभी दुःख दूर हुए, जब तेरा नाम लिया ॥

॥ बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया..॥



जब तेरी गोकुल पे आया दुख भारी,

एक इशारे से सब विपदा टारी ।

मुड़ गया गोवर्धन तुने जहाँ मोड़ दिया,

सभी दुःख दूर हुए, जब तेरा नाम लिया ॥

॥ बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया..॥



नैनो में श्याम बसे, मन में बनवारी,

सुध बिसराएगी मुरली की धुन प्यारी ।

मन के मधुबन में रास रचाए रसिया,

सभी दुःख दूर हुए, जब तेरा नाम लिया ॥

॥ बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया..॥



बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया,

सभी दुःख दूर हुए, जब तेरा नाम लिया ।

जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी: भजन (Jai Radha Madhav, Jai Kunj Bihari)

जरी की पगड़ी बांधे, सुंदर आँखों वाला: भजन (Jari Ki Pagri Bandhe Sundar Ankhon Wala)

भजन: उठ जाग मुसाफिर भोर भई (Bhajan: Uth Jag Musafir Bhor Bhai)

लगन तुमसे लगा बैठे, जो होगा देखा जाएगा। (Lagan Tumse Laga Baithe Jo Hoga Dekha Jayega)

उड़े उड़े बजरंगबली, जब उड़े उड़े: भजन (Ude Ude Bajrangbali, Jab Ude Ude)

मंत्र: श्री विष्णुसहस्रनाम पाठ (Shri Vishnu Sahasranam Path)

हवन-यज्ञ प्रार्थना: पूजनीय प्रभो हमारे (Hawan Prarthana: Pujniya Prabhu Hamare)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 10 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 10)

श्री शङ्कराचार्य कृतं - वेदसारशिवस्तोत्रम् (Vedsara Shiv Stotram)

शंकर शिव शम्भु साधु सन्तन सुखकारी: भजन (Shankar Shiv Shambhu Sadhu Santan Sukhkari)

होली भजन: फाग खेलन बरसाने आये हैं, नटवर नंद किशोर (Holi Bhajan: Faag Khelan Barasane Aaye Hain Natwar Nand Kishore)

भजन: नंद रानी तेरो लाला जबर भयो रे! (Nand Rani Tero Lala Zabar Bhayo Re)