भजन: बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया (Brij Ke Nandlala Radha Ke Sanwariya)

बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया,

सभी दुःख दूर हुए, जब तेरा नाम लिया ।



मीरा पुकारी जब गिरिधर गोपाला,

ढल गया अमृत में विष का भरा प्याला ।

कौन मिटाए उसे, जिसे तू राखे पिया,

सभी दुःख दूर हुए, जब तेरा नाम लिया ॥

॥ बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया..॥



जब तेरी गोकुल पे आया दुख भारी,

एक इशारे से सब विपदा टारी ।

मुड़ गया गोवर्धन तुने जहाँ मोड़ दिया,

सभी दुःख दूर हुए, जब तेरा नाम लिया ॥

॥ बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया..॥



नैनो में श्याम बसे, मन में बनवारी,

सुध बिसराएगी मुरली की धुन प्यारी ।

मन के मधुबन में रास रचाए रसिया,

सभी दुःख दूर हुए, जब तेरा नाम लिया ॥

॥ बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया..॥



बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया,

सभी दुःख दूर हुए, जब तेरा नाम लिया ।

भजन: तेरा पल पल बीता जाए! (Tera Pal Pal Beeta Jay Mukhse Japle Namah Shivay)

राम नाम के हीरे मोती, मैं बिखराऊँ गली गली। (Ram Nam Ke Heere Moti Main Bikhraun Gali Gali)

घुमा दें मोरछड़ी: भजन (Ghuma De Morchadi)

मेरी अखियों के सामने ही रहना, माँ जगदम्बे: भजन (Meri Akhion Ke Samne Hi Rehna Maa Jagdambe)

तेरे दरबार मे मैया खुशी मिलती है: भजन (Tere Darbar Mein Maiya Khushi Milti Hai)

माँ बगलामुखी अष्टोत्तर-शतनाम-स्तोत्रम् (Maa Baglamukhi Ashtottara Shatnam Stotram)

अहोई अष्टमी और राधाकुण्ड से जुड़ी कथा (Ahoi Ashtami And Radhakund Katha)

दे दो अंगूठी मेरे प्राणों से प्यारी: भजन (De Do Anguthi Mere Prano Se Pyari)

अभयदान दीजै दयालु प्रभु (Abhaydan Deejai Dayalu Prabhu Shiv Aarti)

मन मेरा मंदिर, शिव मेरी पूजा: भजन (Man Mera Mandir Shiv Meri Pooja)

राम ही पार लगावेंगे: भजन (Ram Hi Paar Lagavenge)

श्री शङ्कराचार्य कृतं - अर्धनारीनटेश्वर स्तोत्र॥ (Ardhnarishwar Stotram)