रघुपति राघव राजाराम: भजन (Raghupati Raghav Raja Ram)

भगवान श्री हरि के मानव अवतार पुरुषोत्तम श्री राम को समर्पित यह भजन
श्री लक्ष्माचर्या
द्वारा रचित
श्री नम: रामायणम्
का एक अंश है।
स्वतंत्रता आंदोलन
के दौरान यह भजन
महात्मा गांधी
के दैनिक पूजा मे सम्मलित होने के कारण अत्यधिक प्रसिद्ध हुआ।



गाँधी जी इस मूल भजन की 1-2 पंक्तियों को स्वतंत्रता आंदोलन मे अपनी भागीदारी के अनुसार परवर्तित करके गाया करते थे। यह
भजन शांति, सद्भावना एवं भाई चारे
की भावना को प्रेरित करने हेतु अत्यधिक गाया जाता है।



रघुपति राघव राजाराम

पतित पावन सीताराम ॥



सुंदर विग्रह मेघश्याम

गंगा तुलसी शालग्राम ॥



रघुपति राघव राजाराम

पतित पावन सीताराम ॥



भद्रगिरीश्वर सीताराम

भगत-जनप्रिय सीताराम ॥



रघुपति राघव राजाराम

पतित पावन सीताराम ॥



जानकीरमणा सीताराम

जयजय राघव सीताराम ॥



रघुपति राघव राजाराम

पतित पावन सीताराम ॥



रघुपति राघव राजाराम

पतित पावन सीताराम ॥



- श्री लक्ष्माचर्या [श्री नम: रामायणम् से]

पुत्रदा / पवित्रा एकादशी व्रत कथा! (Putrada / Pavitra Ekadashi Vrat Katha)

श्री खाटू श्याम जी आरती (Shri Khatu Shyam Ji Ki Aarti)

तुम बिन मोरी कौन खबर ले गोवर्धन गिरधारी: श्री कृष्ण भजन (Tum Bin Mori Kaun Khabar Le Govardhan Girdhari)

कनकधारा स्तोत्रम्: अङ्गं हरेः पुलकभूषणमाश्रयन्ती (Kanakadhara Stotram: Angam Hareh Pulaka Bhusanam Aashrayanti)

भगवान श्री कुबेर जी आरती (Bhagwan Shri Kuber Ji Aarti)

भजन: कलियुग में सिद्ध हो देव तुम्हीं! (Bhajan: Kalyug Mein Sidh Ho Dev Tumhin Hanuman)

जय शनि देवा - श्री शनिदेव आरती (Aarti Shri Shani Jai Jai Shani Dev)

विसर नाही दातार अपना नाम देहो: शब्द कीर्तन (Visar Nahi Datar Apna Naam Deho)

भजन: दुनिया बनाने वाले महिमा तेरी निराली। (Bhajan: Duniya Banane Wale Mahima Teri Nirali)

शिव आरती - ॐ जय गंगाधर (Shiv Aarti - Om Jai Gangadhar)

अगर श्याम सुन्दर का सहारा ना होता (Agar Shyam Sundar Ka Sahara Na Hota)

सियारानी का अचल सुहाग रहे - भजन (Bhajan: Siyarani Ka Achal Suhag Rahe)