संकट के साथी को हनुमान कहते हैं: भजन (Sankat Ke Sathi Ko Hanuman Kahate Hain)

श्री हनुमान जन्मोत्सव, मंगलवार व्रत, शनिवार पूजा, बूढ़े मंगलवार, सुंदरकांड, रामचरितमानस कथा और अखंड रामायण के पाठ में प्रमुखता से गाये जाने वाला भजन।



दुनिया के मालिक को भगवान कहते हैं

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं॥

पढ़ लो सारे वेद और पुराण कहते हैं

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं॥

॥ दुनिया के मालिक को भगवान...॥



दुनिया के मालिक को भगवान कहते हैं

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं



जब रिश्तेदार तुमसे मुखड़ा छुपाए, हनुमान तेरा साथ निभाए

हनुमान तेरा साथ निभाए, हनुमान तेरा साथ निभाए



जब दुनिया वाले दें ना सहारा, हनुमान पकड़े दामन तुम्हारा

हनुमान पकड़े दामन तुम्हारा, हनुमान पकड़े दामन तुम्हारा



पढ़ लो सारे

पढ़ लो सारे वेद और पुराण कहते हैं

पढ़ लो सारे वेद और पुराण कहते हैं



संकट के साथी को हनुमान कहते हैं

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं

॥ दुनिया के मालिक को भगवान...॥



जो काम इसके वश में नहीं है,

एक काम हमको ऐसा बता दो

एक काम हमको ऐसा बता दो,

एक काम हमको ऐसा बता दो



हनुमान खुश हो जाएगा तुमसे,

बस इनको थोड़ा सिंदूर लगा दो

बस इनको थोड़ा सिंदूर लगा दो,

बस इनको थोड़ा सिंदूर लगा दो



दुनिया के

दुनिया के सारे इंसान कहते हैं

दुनिया के सारे इंसान कहते हैं



संकट के साथी को हनुमान कहते हैं

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं

॥ दुनिया के मालिक को भगवान...॥



दिल से जो इनकी भक्ति करेगा, हनुमान उसका साथी बनेगा

हनुमान उसका साथी बनेगा, हनुमान उसका साथी बनेगा



‘बनवारी’ जो भी शरण में रहेगा, ये उसका बेड़ा पार करेगा

ये उसका बेड़ा पार करेगा, ये उसका बेड़ा पार करेगा



इनके बारे में

इनके बारे में श्रीराम कहते हैं

इनके बारे में श्रीराम कहते हैं



संकट के साथी को हनुमान कहते हैं

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं

॥ दुनिया के मालिक को भगवान...॥



संकट के साथी को हनुमान कहते हैं

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं

जगत में कोई ना परमानेंट: भजन (Jagat Me Koi Na Permanent)

सुन लो चतुर सुजान, निगुरे नहीं रहना (Sunlo Chatur Sujan Nigure Nahi Rehna)

मेरे बांके बिहारी लाल, तू इतना ना करिओ श्रृंगार (Mere Banke Bihari Lal Tu Itna Na Nario Shringar)

जय रघुनन्दन, जय सिया राम: भजन (Jai Raghunandan Jai Siya Ram Bhajan)

बांके बिहारी की देख छटा: भजन (Banke Bihari Ki Dekh Chhata)

श्री कुबेर अष्टोत्तर शतनामावली - 108 नाम (Shri Kuber Ashtottara Shatanamavali - 108 Names)

मत घबरा मन बावरे... (Mat Ghabra Mann Baware)

हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन: भजन (Bhajan: Hey Dukh Bhanjan Maruti Nandan)

कुछ नहीं बिगड़ेगा तेरा, हरी शरण आने के बाद (Kuch Nahi Bigadega Tera Hari Sharan Aane Ke Baad)

भजन: मुखड़ा देख ले प्राणी, जरा दर्पण में (Mukhda Dekh Le Prani, Jara Darpan Main)

मैली चादर ओढ़ के कैसे: भजन (Maili Chadar Odh Ke Kaise)

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी: आरती (Jai Ambe Gauri Maiya Jai Shyama Gauri)