संकट के साथी को हनुमान कहते हैं: भजन (Sankat Ke Sathi Ko Hanuman Kahate Hain)

श्री हनुमान जन्मोत्सव, मंगलवार व्रत, शनिवार पूजा, बूढ़े मंगलवार, सुंदरकांड, रामचरितमानस कथा और अखंड रामायण के पाठ में प्रमुखता से गाये जाने वाला भजन।



दुनिया के मालिक को भगवान कहते हैं

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं॥

पढ़ लो सारे वेद और पुराण कहते हैं

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं॥

॥ दुनिया के मालिक को भगवान...॥



दुनिया के मालिक को भगवान कहते हैं

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं



जब रिश्तेदार तुमसे मुखड़ा छुपाए, हनुमान तेरा साथ निभाए

हनुमान तेरा साथ निभाए, हनुमान तेरा साथ निभाए



जब दुनिया वाले दें ना सहारा, हनुमान पकड़े दामन तुम्हारा

हनुमान पकड़े दामन तुम्हारा, हनुमान पकड़े दामन तुम्हारा



पढ़ लो सारे

पढ़ लो सारे वेद और पुराण कहते हैं

पढ़ लो सारे वेद और पुराण कहते हैं



संकट के साथी को हनुमान कहते हैं

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं

॥ दुनिया के मालिक को भगवान...॥



जो काम इसके वश में नहीं है,

एक काम हमको ऐसा बता दो

एक काम हमको ऐसा बता दो,

एक काम हमको ऐसा बता दो



हनुमान खुश हो जाएगा तुमसे,

बस इनको थोड़ा सिंदूर लगा दो

बस इनको थोड़ा सिंदूर लगा दो,

बस इनको थोड़ा सिंदूर लगा दो



दुनिया के

दुनिया के सारे इंसान कहते हैं

दुनिया के सारे इंसान कहते हैं



संकट के साथी को हनुमान कहते हैं

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं

॥ दुनिया के मालिक को भगवान...॥



दिल से जो इनकी भक्ति करेगा, हनुमान उसका साथी बनेगा

हनुमान उसका साथी बनेगा, हनुमान उसका साथी बनेगा



‘बनवारी’ जो भी शरण में रहेगा, ये उसका बेड़ा पार करेगा

ये उसका बेड़ा पार करेगा, ये उसका बेड़ा पार करेगा



इनके बारे में

इनके बारे में श्रीराम कहते हैं

इनके बारे में श्रीराम कहते हैं



संकट के साथी को हनुमान कहते हैं

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं

॥ दुनिया के मालिक को भगवान...॥



संकट के साथी को हनुमान कहते हैं

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं

बधाई भजन: बजे कुण्डलपर में बधाई, के नगरी में वीर जन्मे (Badhai Bhajan Baje Kundalpur Me Badayi Nagri Me Veer Janme)

जय श्री वल्लभ, जय श्री विट्ठल, जय यमुना श्रीनाथ जी: भजन (Jai Shri Vallabh Jai Shri Vithal, Jai Yamuna Shrinathji)

पद्मिनी एकादशी व्रत कथा (Padmini Ekadashi Vrat Katha)

श्री जग्गनाथ आरती - चतुर्भुज जगन्नाथ (Shri Jagganath Aarti - Chaturbhuja Jagannatha)

विनती: दीनानाथ मेरी बात, छानी कोणी तेरे से (Dinanath Meri Baat Chani Koni Tere Se)

काक चेष्टा, बको ध्यानं: आदर्श विद्यार्थी के पांच लक्षण (Kaak Cheshta Vidyarthee Ke Panch Gun)

मन मेरा मंदिर, शिव मेरी पूजा: भजन (Man Mera Mandir Shiv Meri Pooja)

होली खेल रहे नंदलाल: होली भजन (Holi Bhajan: Holi Khel Rahe Nandlal)

परमा एकादशी व्रत कथा (Parama Ekadashi Vrat Katha)

श्री चित्रगुप्त जी की आरती - श्री विरंचि कुलभूषण (Shri Chitragupt Aarti - Shri Viranchi Kulbhusan)

माँ सरस्वती अष्टोत्तर-शतनाम-नामावली (Sarasvati Ashtottara Shatnam Namavali)

भजन: मन तड़पत हरि दर्शन को आज (Mann Tarpat Hari Darshan Ko Aaj)