बड़ा प्यारा सजा है तेरा द्वार भवानी: भजन (Pyara Saja Hai Tera Dwar Bhawani)

दरबार तेरा दरबारों में,

एक ख़ास एहमियत रखता है।

उसको वैसा मिल जाता है,

जो जैसी नियत रखता है॥



बड़ा प्यारा सजा है तेरा द्वार भवानी।

भक्तों की लगी है कतार भवानी॥



ऊँचे पर्बत भवन निराला।

आ के शीश निवावे संसार, भवानी॥

प्यारा सजा है द्वार भवानी॥



जगमग जगमग ज्योत जगे है।

तेरे चरणों में गंगा की धार, भवानी॥

तेरे भक्तों की लगी है कतार, भवानी॥



लाल चुनरिया लाल लाल चूड़ा।

गले लाल फूलों के सोहे हार, भवानी॥

प्यारा सजा है द्वार, भवानी॥



सावन महीना मैया झूला झूले।

देखो रूप कंजको का धार भवानी॥

प्यारा सजा है द्वार भवानी॥



पल में भरती झोली खाली।

तेरे खुले दया के भण्डार, भवानी॥

तेरे भक्तों की लगी है कतार, भवानी॥



लक्खा को है तेरा सहारा माँ।

करदे अपने सरल का बेडा पार, भवानी॥

प्यारा सजा है द्वार भवानी॥

हरि कर दीपक, बजावें संख सुरपति (Hari Kar Deepak Bajave Shankh Surpati)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 22 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 22)

भजन: खाटू का राजा मेहर करो (Khatu Ka Raja Mehar Karo)

बनवारी रे! जीने का सहारा तेरा नाम रे: भजन (Banwari Re Jeene Ka Sahara Tera Naam Re)

भजन: राधे कृष्ण की ज्योति अलोकिक (Radhe Krishna Ki Jyoti Alokik)

आज बिरज में होरी रे रसिया: होली भजन (Aaj Biraj Mein Hori Re Rasiya)

मीरा बाई भजन: ऐ री मैं तो प्रेम-दिवानी (Ae Ri Main To Prem Diwani)

बजरंगबली मेरी नाव चली: भजन (Bajarangabali Meri Nav Chali)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 8 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 8)

दीप प्रज्वलन मंत्र: शुभं करोति कल्याणम् आरोग्यम् (Deep Prajwalan Mantra: Shubham Karoti Kalyanam Aarogyam)

एकादशी माता की आरती (Ekadashi Mata Ki Aarti)

भजन: थारी जय जो पवन कुमार! (Bhajan: Thari Jai Ho Pavan Kumar Balihari Jaun Balaji)