श्री गौमता जी की आरती (Shri Gaumata Ji Ki Aarti)

आरती श्री गैय्या मैंय्या की,

आरती हरनि विश्‍व धैय्या की ॥



अर्थकाम सद्धर्म प्रदायिनि,

अविचल अमल मुक्तिपददायिनि ।

सुर मानव सौभाग्य विधायिनि,

प्यारी पूज्य नंद छैय्या की ॥

॥ आरती श्री गैय्या मैंय्या की...॥



अख़िल विश्‍व प्रतिपालिनी माता,

मधुर अमिय दुग्धान्न प्रदाता ।

रोग शोक संकट परित्राता,

भवसागर हित दृढ़ नैय्या की ॥

॥ आरती श्री गैय्या मैंय्या की...॥



आयु ओज आरोग्य विकाशिनि,

दुख दैन्य दारिद्रय विनाशिनि ।

सुष्मा सौख्य समृद्धि प्रकाशिनि,

विमल विवेक बुद्धि दैय्या की ॥

॥ आरती श्री गैय्या मैंय्या की...॥



सेवक जो चाहे दुखदाई,

सम पय सुधा पियावति माई ।

शत्रु मित्र सबको दुखदायी,

स्नेह स्वभाव विश्‍व जैय्या की ॥

॥ आरती श्री गैय्या मैंय्या की...॥



आरती श्री गैय्या मैंय्या की,

आरती हरनि विश्‍व धैय्या की ॥

देख लिया संसार हमने देख लिया (Dekh Liya Sansar Hamne Dekh Liya)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 26 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 26)

भजन: झूलन चलो हिंडोलना, वृषभान नंदनी (Jjhulan Chalo Hindolana Vrashbhanu Nandni)

मंत्र: माँ गायत्री (Maa Gayatri)

रामयुग: जय हनुमान - हर हर है हनुवीर का (Jai Hanuman From Ramyug)

श्री युगलाष्टकम् - कृष्ण प्रेममयी राधा (Yugal Ashtakam - Krishna Premayi Radha)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 4 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 4)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 5 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 5)

भजन: श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में! (Shri Ram Janki Baithe Hain Mere Seene Me Bhajan)

भक्ति की झंकार उर के: प्रार्थना (Bhakti Ki Jhankar Urke Ke Taron Main: Prarthana)

मन की मुरादें, पूरी कर माँ: भजन (Mann Mi Muraden Poori Kar Maa)

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी। (Maa Murade Puri Karde Main Halwa Batungi)