राम नाम सुखदाई, भजन करो भाई! (Ram Naam Sukhdai Bhajan Karo Bhai Yeh Jeevan Do Din Ka)

राम नाम सुखदाई, भजन करो भाई

ये जीवन दो दिन का

॥ राम नाम सुखदाई...॥



ये तन है जंगल की लकड़ी, ये तन है जंगल की लकड़ी

आग लगे जल जाए, भजन करो भाई

ये जीवन दो दिन का

॥ राम नाम सुखदाई...॥



ये तन है कागज की पूडिया, ये तन है कागज की पुडिया

हवा चले उड़ जाई, भजन करो भाई

ये जीवन दो दिन का

॥ राम नाम सुखदाई...॥



ये तन है माटी का ढेला, ये तन है माटी का ढेला

बूँद पड़े गल जाई, भजन करो भाई

ये जीवन दो दिन का

॥ राम नाम सुखदाई...॥



ये तन है फूलो का बगीचा, ये तन है फूलो का बगीचा

धूप पड़े मुरझाई, भजन करो भाई

ये जीवन दो दिन का

॥ राम नाम सुखदाई...॥



ये तन है कच्ची है हवेली, ये तन है कच्ची है हवेली

पल मे टूट जाई, भजन करो भाई

ये जीवन दो दिन का

॥ राम नाम सुखदाई...॥



ये तन है सपनो की माया, ये तन है सपनो की माया

आँख खुले कुछ नाही, भजन करो भाई

ये जीवन दो दिन का

॥ राम नाम सुखदाई...॥



राम नाम सुखदाई, भजन करो भाई

ये जीवन दो दिन का

भजन: मुखड़ा देख ले प्राणी, जरा दर्पण में (Mukhda Dekh Le Prani, Jara Darpan Main)

भजन: हरि जी! मेरी लागी लगन मत तोडना.. (Hari Ji Meri Lagi Lagan Mat Todna)

मुकुट सिर मोर का, मेरे चित चोर का: भजन (Mukut Sir Mor Ka, Mere Chit Chor Ka)

श्री गणेश मंत्र - गजाननं भूत गणादि सेवितं! (Shri Ganesh Mantr: Gajananam Bhoota Ganadhi Sevitam)

नाकोड़ा के भैरव तुमको आना होगा: भजन (Nakoda Ke Bhairav Tumko Aana Hoga)

अष्टोत्तर भैरव नामावलि (Bhairav Stotram)

क्षमा करो तुम मेरे प्रभुजी: भजन (Kshama Karo Tum Mere Prabhuji)

मोहिनी एकादशी व्रत कथा (Mohini Ekadashi Vrat Katha)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 28 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 28)

भजन करो मित्र मिला आश्रम नरतन का: भजन (Bhajan Karo Mitra Mila Ashram Nartan Ka)

जग में सुन्दर है दो नाम... (Jag Main Sundar Hain Do Naam)

इस योग्य हम कहाँ हैं, गुरुवर तुम्हें रिझायें: भजन (Is Yogya Ham Kahan Hain, Guruwar Tumhen Rijhayen)