नाम त्रय अस्त्र मन्त्र (Nama Traya Astra Mantra)

अच्युताय गोविन्दाय अनंताय ।



ॐ अच्युताय नमः ॥

ॐ गोविन्दाय नमः ॥

ॐ अनंताय नमः ॥



अग्नि पुराण में शक्तिशाली मंत्र का उल्लेख है जो सभी रोगों के लिए एक प्रभावी माना गया है। इस मंत्र का जाप विश्वास और भक्ति के साथ किया जाए, तो सभी रोगों को दूर किया जा सकता है।




अथर्व मंत्र:

अच्युताय नमः जो कभी चुय्त नहीं होते।

गोविन्दाय नमः जिनकी सत्ता से इन्द्रियाँ विचरण करती हैं।

अनंताय नमः जिसकी सत्ता से शक्ति, सामर्थ्य व कृपा का कोई अंत नहीं।

माँ रेवा: थारो पानी निर्मल (Maa Rewa: Tharo Pani Nirmal)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 26 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 26)

मेरे बांके बिहारी लाल, तू इतना ना करिओ श्रृंगार (Mere Banke Bihari Lal Tu Itna Na Nario Shringar)

भजन: बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया (Brij Ke Nandlala Radha Ke Sanwariya)

श्रीदेवीजी की आरती - जगजननी जय! जय! (Shri Deviji Ki Aarti - Jaijanani Jai Jai)

छोटी सी किशोरी मोरे अंगना मे डोले रे (Chhoti Si Kishori More Angana Me Dole Re)

भगवन लौट अयोध्या आए.. (Bhagwan Laut Ayodhya Aaye)

हरी दर्शन की प्यासी अखियाँ: भजन (Akhiya Hari Darshan Ki Pyasi)

श्री कुबेर अष्टोत्तर शतनामावली - 108 नाम (Shri Kuber Ashtottara Shatanamavali - 108 Names)

पत्नीं मनोरमां देहि - सुंदर पत्नी प्राप्ति मंत्र (Patni Manoraman Dehi)

श्रीमन नारायण नारायण हरी हरी.. भजन (Shri Man Narayan Narayan Hari Hari)

श्री कृष्णाष्टकम् (Shri Krishnashtakam)