दे दो अंगूठी मेरे प्राणों से प्यारी: भजन (De Do Anguthi Mere Prano Se Pyari)

दे दो अंगूठी मेरे प्राणों से प्यारी

इसे लाया है कौन, इसे लाया है कौन

मेरे रघुवर की, रघुबर की




मात भी छोड़े, मैंने पिता भी छोड़े


छोड़ी जनकपुरी, छोड़ी जनकपुरी,


मेरे बाबुल की, बाबुल की



दे दो अंगूठी मेरे प्राणों से प्यारी

इसे लाया है कौन, इसे लाया है कौन

मेरे रघुवर की, रघुबर की




संग भी छोड़ा, मैंने साथ भी छोड़ा


छोड़ी संग सहेली, छोड़ी संग सहेली


मेरे बचपन की, बचपन की



दे दो अंगूठी मेरे प्राणों से प्यारी

इसे लाया है कौन, इसे लाया है कौन

मेरे रघुवर की, रघुबर की




सास भी छोड़े मैंने सुसर भी छोड़े


छोड़ी अवधपुरी, छोड़ी अवधपुरी,


मेरे ससुरा की, ससुरा की



दे दो अंगूठी मेरे प्राणों से प्यारी

इसे लाया है कौन, इसे लाया है कौन

मेरे रघुवर की, रघुबर की




राम भी छोड़े मैंने लक्ष्मण भी छोड़े


छोड़ी पंचवटी, छोड़ी पंचवटी


मेरे रघुवर की, रघुवर की



दे दो अंगूठी मेरे प्राणों से प्यारी

इसे लाया है कौन, इसे लाया है कौन

मेरे रघुवर की, रघुबर की




इतने मे हनुमत बोले सीता से,


इतने मे हनुमत बोले सीता से,


इसे मैं लेके आया, इसे मैं लेके आया



दे दो अंगूठी मेरे प्राणों से प्यारी

इसे लाया है कौन, इसे लाया है कौन

मेरे रघुवर की, रघुबर की

जानकी नाथ सहाय करें.. (Janaki Nath Sahay Kare)

भजन: मेरो लाला झूले पालना, नित होले झोटा दीजो ! (Mero Lala Jhule Palna Nit Hole Jhota Dijo)

श्री जग्गनाथ आरती - चतुर्भुज जगन्नाथ (Shri Jagganath Aarti - Chaturbhuja Jagannatha)

श्री उमा महेश्वर स्तोत्रं (Shri Uma Maheswara Stotram)

प्रभु! स्वीकारो मेरे परनाम (Prabhu Sweekaro Mere Paranam)

हे दयामय आप ही संसार के आधार हो। (Hey Dayamay Aap Hi Sansar Ke Adhar Ho)

तेरे चरण कमल में श्याम: भजन (Tere Charan Kamal Mein Shyam)

वरुथिनी एकादशी व्रत कथा (Varuthini Ekadashi Vrat Katha)

शिवाष्ट्कम्: जय शिवशंकर, जय गंगाधर.. पार्वती पति, हर हर शम्भो (Shivashtakam: Jai ShivShankar Jai Gangadhar, Parvati Pati Har Har Shambhu)

देवोत्थान / प्रबोधिनी एकादशी व्रत कथा 2 (Devutthana Ekadashi Vrat Katha 2)

हरि कर दीपक, बजावें संख सुरपति (Hari Kar Deepak Bajave Shankh Surpati)

श्रीमन नारायण नारायण हरी हरी.. भजन (Shri Man Narayan Narayan Hari Hari)