आरती युगलकिशोर की कीजै! (Aarti Shri Yugal Kishoreki Keejai)

आरती युगलकिशोर की कीजै।

तन मन धन न्योछावर कीजै॥



गौरश्याम मुख निरखन लीजै।

हरि का रूप नयन भरि पीजै॥



रवि शशि कोटि बदन की शोभा।

ताहि निरखि मेरो मन लोभा॥



ओढ़े नील पीत पट सारी।

कुंजबिहारी गिरिवरधारी॥



फूलन सेज फूल की माला।

रत्न सिंहासन बैठे नंदलाला॥



कंचन थार कपूर की बाती।

हरि आए निर्मल भई छाती॥



श्री पुरुषोत्तम गिरिवरधारी।

आरती करें सकल नर नारी॥



नंदनंदन बृजभान किशोरी।

परमानंद स्वामी अविचल जोरी॥






Read Also

»
श्री कृष्ण जन्माष्टमी - Shri Krishna Janmashtami
|
राधाष्टमी - Radhashtami
|
भोग प्रसाद

»
दिल्ली मे कहाँ मनाएँ श्री कृष्ण जन्माष्टमी।

»
दिल्ली और आस-पास के प्रसिद्ध श्री कृष्ण मंदिर।
|
जानें दिल्ली मे ISKCON मंदिर कहाँ-कहाँ हैं?
|
दिल्ली के प्रमुख श्री कृष्ण प्रणामी मंदिर।

»
ब्रजभूमि के प्रसिद्ध मंदिर!
|
भारत के चार धाम

»
आरती: श्री बाल कृष्ण जी
|
भोग आरती: श्रीकृष्ण जी
|
बधाई भजन: लल्ला की सुन के मै आयी!

भजन: पायो जी मैंने राम रतन धन पायो। (Bhajan: Piyo Ji Maine Ram Ratan Dhan Payo)

भजन: बेटा जो बुलाए माँ को आना चाहिए (Beta Jo Bulaye Maa Ko Aana Chahiye)

आरती सरस्वती जी: ओइम् जय वीणे वाली (Saraswati Om Jai Veene Wali)

दीप प्रज्वलन मंत्र: शुभं करोति कल्याणम् आरोग्यम् (Deep Prajwalan Mantra: Shubham Karoti Kalyanam Aarogyam)

धन धन भोलेनाथ बॉंट दिये, तीन लोक: भजन (Dhan Dhan Bholenath Bant Diye Teen Lok)

श्री सत्यनारायण कथा - तृतीय अध्याय (Shri Satyanarayan Katha Tritiya Adhyay)

महिषासुरमर्दिनि स्तोत्रम् - अयि गिरिनन्दिनि (Mahishasura Mardini Stotram - Aigiri Nandini)

माँ सरस्वती अष्टोत्तर-शतनाम-नामावली (Sarasvati Ashtottara Shatnam Namavali)

बोल राधे, बोल राधे: भजन (Bol Radhey, Bol Radhey)

भजन: राम पे जब जब विपदा आई.. (Ram Pe Jab Jab Vipada Aai)

सुन लो चतुर सुजान, निगुरे नहीं रहना (Sunlo Chatur Sujan Nigure Nahi Rehna)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 2 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 2)