आरती युगलकिशोर की कीजै! (Aarti Shri Yugal Kishoreki Keejai)

आरती युगलकिशोर की कीजै।

तन मन धन न्योछावर कीजै॥



गौरश्याम मुख निरखन लीजै।

हरि का रूप नयन भरि पीजै॥



रवि शशि कोटि बदन की शोभा।

ताहि निरखि मेरो मन लोभा॥



ओढ़े नील पीत पट सारी।

कुंजबिहारी गिरिवरधारी॥



फूलन सेज फूल की माला।

रत्न सिंहासन बैठे नंदलाला॥



कंचन थार कपूर की बाती।

हरि आए निर्मल भई छाती॥



श्री पुरुषोत्तम गिरिवरधारी।

आरती करें सकल नर नारी॥



नंदनंदन बृजभान किशोरी।

परमानंद स्वामी अविचल जोरी॥






Read Also

»
श्री कृष्ण जन्माष्टमी - Shri Krishna Janmashtami
|
राधाष्टमी - Radhashtami
|
भोग प्रसाद

»
दिल्ली मे कहाँ मनाएँ श्री कृष्ण जन्माष्टमी।

»
दिल्ली और आस-पास के प्रसिद्ध श्री कृष्ण मंदिर।
|
जानें दिल्ली मे ISKCON मंदिर कहाँ-कहाँ हैं?
|
दिल्ली के प्रमुख श्री कृष्ण प्रणामी मंदिर।

»
ब्रजभूमि के प्रसिद्ध मंदिर!
|
भारत के चार धाम

»
आरती: श्री बाल कृष्ण जी
|
भोग आरती: श्रीकृष्ण जी
|
बधाई भजन: लल्ला की सुन के मै आयी!

सदाशिव सर्व वरदाता, दिगम्बर हो तो ऐसा हो - भजन (Sada Shiv Sarva Var Data Digamber Ho To Aisa Ho)

कनक भवन दरवाजे पड़े रहो: भजन (Kanak Bhawan Darwaje Pade Raho)

भजन: कुमार मैने देखे, सुंदर सखी दो कुमार! (Bhajan: Kumar Maine Dekhe, Sundar Sakhi Do Kumar)

काली कमली वाला मेरा यार है: भजन (Kali Kamali Wala Mera Yar Hai)

राधा को नाम अनमोल बोलो राधे राधे। (Radha Ko Naam Anmol Bolo Radhe Radhe)

नाम त्रय अस्त्र मन्त्र (Nama Traya Astra Mantra)

भगवन लौट अयोध्या आए.. (Bhagwan Laut Ayodhya Aaye)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 7 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 7)

जयति जयति जग-निवास, शंकर सुखकारी (Jayati Jayati Jag Niwas Shankar Sukhkari)

॥श्रीमहालक्ष्मीस्तोत्रम् विष्णुपुराणान्तर्गतम्॥ (Mahalakshmi Stotram From Vishnupuran)

अनमोल तेरा जीवन, यूँ ही गँवा रहा है: भजन (Anmol Tera Jeevan Yuhi Ganwa Raha Hai)

लड्डू गोपाल मेरा, छोटा सा है लला मेरा.. (Laddu Gopal Mera Chota Sa Hai Lalaa)