भजन: उठो सोने वालों सबेरा हुआ है (Utho Sone Walo Sabera Hua Hai)

उठो सोने वालों सबेरा हुआ है ।

वतन के फकीरों का फेरा हुआ है ॥



उठो अब निराशा निशा खो रही है

सुनहली-सी पूरब दिशा हो रही है

उषा की किरण जगमगी हो रही है

विहंगों की ध्वनि नींद तम धो रही है

तुम्हें किसलिए मोह घेरा हुआ है

उठो सोने वालों सबेरा हुआ है ॥



उठो बूढ़ों बच्चों वतन दान माँगो

जवानों नई ज़िंदगी ज्ञान माँगो

पड़े किसलिए देश उत्थान माँगो

शहीदों से भारत का अभिमान माँगो

घरों में दिलों में उजाला हुआ है ।

उठो सोने वालों सबेरा हुआ है ॥



उठो देवियों वक्त खोने न दो तुम

जगे तो उन्हें फिर से सोने न दो तुम

कोई फूट के बीज बोने न दो तुम

कहीं देश अपमान होने न दो तुम

घडी शुभ महूरत का फेरा हुआ है ।

उठो सोने वालों सबेरा हुआ है ॥



हवा क्रांति की आ रही ले उजाली

बदल जाने वाली है शासन प्रणाली

जगो देख लो मस्त फूलों की डाली

सितारे भगे आ रहा अंशुमाली

दरख़्तों पे चिड़ियों का फेरा हुआ है ।

उठो सोने वालों सबेरा हुआ है ॥



- वंशीधर शुक्ल

मैं दो-दो माँ का बेटा हूँ: भजन (Main Do-Do Maa Ka Beta Hun)

माँ! मुझे तेरी जरूरत है। (Maa! Mujhe Teri Jarurat Hai)

भजन: राम पे जब जब विपदा आई.. (Ram Pe Jab Jab Vipada Aai)

राम नाम के हीरे मोती, मैं बिखराऊँ गली गली। (Ram Nam Ke Heere Moti Main Bikhraun Gali Gali)

सुनो सुनो, एक कहानी सुनो (Suno Suno Ek Kahani Suno)

कई जन्मों से बुला रही हूँ: भजन (Kai Janmo Se Bula Rahi Hun)

विन्ध्येश्वरी आरती: सुन मेरी देवी पर्वतवासनी (Sun Meri Devi Parvat Vasani)

पतिव्रता सती माता अनसूइया की कथा (Pativrata Sati Mata Ansuiya Ki Katha)

श्यामा तेरे चरणों की, गर धूल जो मिल जाए: भजन (Shyama Tere Charno Ki, Gar Dhool Jo Mil Jaye)

श्री सोमनाथ ज्योतिर्लिंग प्रादुर्भाव पौराणिक कथा! (Shri Somnath Jyotirlinga Utpatti Pauranik Katha)

श्री शिवसहस्रनामावली (Shiv 1008 Sahastra Namavali)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 10 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 10)