भजन: उठो सोने वालों सबेरा हुआ है (Utho Sone Walo Sabera Hua Hai)

उठो सोने वालों सबेरा हुआ है ।

वतन के फकीरों का फेरा हुआ है ॥



उठो अब निराशा निशा खो रही है

सुनहली-सी पूरब दिशा हो रही है

उषा की किरण जगमगी हो रही है

विहंगों की ध्वनि नींद तम धो रही है

तुम्हें किसलिए मोह घेरा हुआ है

उठो सोने वालों सबेरा हुआ है ॥



उठो बूढ़ों बच्चों वतन दान माँगो

जवानों नई ज़िंदगी ज्ञान माँगो

पड़े किसलिए देश उत्थान माँगो

शहीदों से भारत का अभिमान माँगो

घरों में दिलों में उजाला हुआ है ।

उठो सोने वालों सबेरा हुआ है ॥



उठो देवियों वक्त खोने न दो तुम

जगे तो उन्हें फिर से सोने न दो तुम

कोई फूट के बीज बोने न दो तुम

कहीं देश अपमान होने न दो तुम

घडी शुभ महूरत का फेरा हुआ है ।

उठो सोने वालों सबेरा हुआ है ॥



हवा क्रांति की आ रही ले उजाली

बदल जाने वाली है शासन प्रणाली

जगो देख लो मस्त फूलों की डाली

सितारे भगे आ रहा अंशुमाली

दरख़्तों पे चिड़ियों का फेरा हुआ है ।

उठो सोने वालों सबेरा हुआ है ॥



- वंशीधर शुक्ल

मेरी अखियों के सामने ही रहना, माँ जगदम्बे: भजन (Meri Akhion Ke Samne Hi Rehna Maa Jagdambe)

गंगा के खड़े किनारे, भगवान् मांग रहे नैया: भजन (Ganga Ke Khade Kinare Bhagwan Mang Rahe Naiya)

भजन: बांटो बांटो मिठाई मनाओ ख़ुशी (Banto Banto Mithai Manao Khushi)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 30 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 30)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 16 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 16)

श्री विश्वकर्मा आरती- जय श्री विश्वकर्मा प्रभु (Shri Vishwakarma Ji Ki Aarti)

जिनका मैया जी के चरणों से संबंध हो गया (Jinka Maiya Ji Ke Charno Se Sabandh Hogaya)

तेरी सूरत पे जाऊं बलिहार रसिया: भजन (Teri Surat Pe Jaun Balihari Rasiya)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 29 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 29)

भगवान श्री चित्रगुप्त जी की आरती (Bhagwan Shri Chitragupt Aarti)

गोविन्द जय-जय, गोपाल जय-जय (Govind Jai Jai, Gopal Jai Jai)

दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया: भजन (Data Ek Ram Bhikhari Sari Duniya)