विधाता तू हमारा है: प्रार्थना (Vidhata Tu Hamara Hai: Prarthana)

विधाता तू हमारा है, तू ही विज्ञान दाता है ।

बिना तेरी दया कोई, नहीं आनन्द पाता है ॥



तितिक्षा को कसौटी से, जिसे तू जांच लेता है ।

उसी विद्याधिकारी को, अविद्या से छुड़ाता है ॥



सताता जो न औरों को, न धोखा आप खाता है ।

वही सद्भक्त है तेरा, सदाचारी कहाता है ॥



सदा जो न्याय का प्यारा, प्रजा को दान देता है ।

महाराजा ! उसी को तू बड़ा राजा बनाता है ॥



तजे जो धर्म को, धारा कुकर्मों को बहाता है ।

न ऐसे नीच पापी को कभी ऊंचा चढ़ाता है ॥



स्वयंभू शंकरानन्दी तुझे जो जान लेता है ।

वही कैवल्य सत्ता की महत्ता में समाता है ॥

जो विधि कर्म में लिखे विधाता: भजन (Jo Vidhi Karam Me Likha Vidhata)

भजन: भगतो को दर्शन दे गयी रे (Bhagton Ko Darshan De Gayi Re Ek Choti Si Kanya)

ब्रजराज ब्रजबिहारी! इतनी विनय हमारी (Brajaraj Brajbihari Itni Vinay Hamari)

श्री शीतलाष्टक स्तोत्र (Shri Sheetla Ashtakam)

भजन: मेरो मॅन लग्यॉ बरसाने मे (Mero Man Lagyo Barsane Mei Jaha Viraje Radharani)

बधाई भजन: बजे कुण्डलपर में बधाई, के नगरी में वीर जन्मे (Badhai Bhajan Baje Kundalpur Me Badayi Nagri Me Veer Janme)

बांके बिहारी मुझको देना सहारा! (Banke Bihari Mujhko Dena Sahara)

छठ पूजा: कांच ही बांस के बहंगिया (Chhath: Kanch Hi Bans Ke Bahangiya)

मेरी भावना: जिसने राग-द्वेष कामादिक - जैन पाठ (Meri Bawana - Jisne Raag Dwesh Jain Path)

कृष्ण जिनका नाम है: भजन (Krishna Jinka Naam Hai Gokul Jinka Dham Hai Bhajan)

मेरे भोले बाबा को अनाड़ी मत समझो: शिव भजन (Mere Bhole Baba Ko Anadi Mat Samjho)

भजन: घर आये राम लखन और सीता (Ghar Aaye Ram Lakhan Aur Sita)