माँ रेवा: थारो पानी निर्मल (Maa Rewa: Tharo Pani Nirmal)

नदी को भारत मे माँ का सम्मान दिया गया है, तथा
नर्मदा नदी
को
माँ रेवा
के रूप में भी जाना जाता है। यह मध्य-भारत की जीवनरेखा की तरह है। नर्मदा का निर्मल पानी एवं उसके कल-कल करते बहते पानी को शब्दों मे पिरोह कर एक बहुत ही सुंदर गीत निर्मित किया गया है।




इस गीत को नर्मदा घाटी के किनारे की संस्कृति में रचे-बसे लोग प्रायः गाते ही हैं, तथा यह नदियों पर लिखे गए गीतों में बहुत अधिक गाया जाने वाला गीत भी है।



माँ रेवा थारो पानी निर्मल,

खलखल बहतो जायो रे..

माँ रेवा !



अमरकंठ से निकली है रेवा,

जन-जन कर गयो भाड़ी सेवा..

सेवा से सब पावे मेवा,

ये वेद पुराण बतायो रे !



माँ रेवा थारो पानी निर्मल,

खलखल बहतो जायो रे..

माँ रेवा !



Maa Rewa | Indian Ocean | Kandisa

गजानन करदो बेड़ा पार: भजन (Gajanan Kardo Beda Paar)

अथ दुर्गाद्वात्रिंशन्नाममाला - श्री दुर्गा द्वात्रिंशत नाम माला (Shri Durga Dwatrinshat Nam Mala)

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं: भजन (Sankat Ke Sathi Ko Hanuman Kahate Hain)

दे दो अपनी पुजारन को वरदान माँ: भजन (Dedo Apni Pujarin Ko Vardan Maa)

राम कहानी सुनो रे राम कहानी: भजन (Ram Kahani Suno Re Ram Kanahi)

जन्माष्टमी भजन: बड़ा नटखट है रे, कृष्ण कन्हैया! (Bada Natkhat Hai Re Krishn Kanhaiya)

दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार: भजन (Duniya Se Jab Main Hara Too Aaya Tere Dwar)

विनती: दीनानाथ मेरी बात, छानी कोणी तेरे से (Dinanath Meri Baat Chani Koni Tere Se)

श्री गणेश आरती (Shri Ganesh Aarti)

भजन: धरा पर अँधेरा बहुत छा रहा है (Bhajan: Dhara Par Andhera Bahut Chha Raha Hai)

श्री राम रक्षा स्तोत्रम् (Shri Ram Raksha Stotram)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 26 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 26)