माँ रेवा: थारो पानी निर्मल (Maa Rewa: Tharo Pani Nirmal)

नदी को भारत मे माँ का सम्मान दिया गया है, तथा
नर्मदा नदी
को
माँ रेवा
के रूप में भी जाना जाता है। यह मध्य-भारत की जीवनरेखा की तरह है। नर्मदा का निर्मल पानी एवं उसके कल-कल करते बहते पानी को शब्दों मे पिरोह कर एक बहुत ही सुंदर गीत निर्मित किया गया है।




इस गीत को नर्मदा घाटी के किनारे की संस्कृति में रचे-बसे लोग प्रायः गाते ही हैं, तथा यह नदियों पर लिखे गए गीतों में बहुत अधिक गाया जाने वाला गीत भी है।



माँ रेवा थारो पानी निर्मल,

खलखल बहतो जायो रे..

माँ रेवा !



अमरकंठ से निकली है रेवा,

जन-जन कर गयो भाड़ी सेवा..

सेवा से सब पावे मेवा,

ये वेद पुराण बतायो रे !



माँ रेवा थारो पानी निर्मल,

खलखल बहतो जायो रे..

माँ रेवा !



Maa Rewa | Indian Ocean | Kandisa

भजन: ज्योत से ज्योत जगाते चलो.. (Bhajan: Jyot Se Jyot Jagate Chalo)

सकट चौथ पौराणिक व्रत कथा - श्री महादेवजी पार्वती (Sakat Chauth Pauranik Vrat Katha - Shri Mahadev Parvati)

भजन: बजरंग के आते आते कही भोर हो न जाये रे... (Bajrang Ke Aate 2 Kahin Bhor Ho Na Jaye Re)

जन्मे अवध रघुरइया हो: भजन (Janme Awadh Raghuraiya Ho)

प्रभु को अगर भूलोगे बन्दे, बाद बहुत पछताओगे (Prabhu Ko Agar Bhuloge Bande Need Kahan Se Laoge)

संकटनाशन गणेश स्तोत्र - प्रणम्यं शिरसा देव गौरीपुत्रं विनायकम (Shri Sankat Nashan Ganesh Stotra)

माँ तुलसी अष्टोत्तर-शतनाम-नामावली (Tulsi Ashtottara Shatnam Namavali)

पापांकुशा एकादशी व्रत कथा! (Papankusha Ekadashi Vrat Katha)

तेरे चरण कमल में श्याम: भजन (Tere Charan Kamal Mein Shyam)

शुक्रवार संतोषी माता व्रत कथा (Shukravar Santoshi Mata Vrat Katha)

ऐ मुरली वाले मेरे कन्हैया, बिना तुम्हारे.. (Ae Murliwale Mere Kanhaiya, Bina Tumhare Tadap Rahe Hain)

हे माँ मुझको ऐसा घर दे: भजन (He Maa Mujhko Aisa Ghar De)