चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो: भजन (Chalo Shiv Shankar Ke Mandir Me Bhakto)

लिया नाम जिसने भी शिवजी का मन से,

उसे भोले शंकर ने अपना बनाया ।

खुले उस पे सब द्वार शिव की दया के,

जो श्रद्धा से भोले के मंदिर में आया ॥



हर हर हर महादेव की जय हो ।

शंकर शिव कैलाशपति की जय हो ॥



चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो,

शिव जी के चरणों में सर को झुकाए ।

करें अपने तन मन को गंगा सा पावन..2

जपें नाम शिव का भजन इनके गाएं ॥



चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो

हर हर हर महादेव की जय हो ।..4



यह संसार झूठी माया का बंधन,

शिवालयमें मार्ग है मुक्ति का भक्तो ।

महादेव का नाम लेने से हर दिन,

मिलेगा हमें दान शक्ति का भक्तो ।

मिट्टी में मिट्टी की काया मिलेगी..2

चलो आत्मा को तो कुंदन बनाएं ॥

चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो॥



कहीं भी नहीं अंत उस की दया का,

करें वंदना उस दयालु पिता की ।

हमें भी मिले छावं उसकी कृपा की,

हमे भी मिले भीख उसकी दया की ।

लगाकर समाधि करें शिव का सिमरन..2

यूँ सोये हुए भाग्य अपने जगाएं ॥

चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो ॥



करें सब का कल्याण, कल्याणकारी,

भरे सबके भण्डार त्रिनेत्र धारी ।

कोई उसको जग में कमी ना रहेगी,

बनेगा जो तनमन से शिव का पुजारी ।

करे नाम लेकर सफल अपना जीवन..2

यह अनमोल जीवन यूँही ना गवाए ॥



चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो

शिव जी के चरणों में सर को झुकाए ।

करें अपने तन मन को गंगा सा पावन..2

जपें नाम शिव का भजन इनके गाएं ॥



चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो

हर हर हर महादेव की जय हो ।..4

भजन: तुम से लागी लगन.. पारस प्यारा (Tumse Lagi Lagan Le Lo Apni Sharan Paras Pyara)

ऐसे मेरे मन में विराजिये: भजन (Aaise Mere Maan Main Virajiye)

भगवान मेरी नैया, उस पार लगा देना: भजन (Bhagwan Meri Naiya Us Par Gaga Dena)

तेरे द्वार खड़ा भगवान, भक्त भर..: भजन (Tere Dwaar Khada Bhagawan Bhagat Bhar De Re Jholi)

गोपाल गोकुल वल्लभे, प्रिय गोप गोसुत वल्लभं (Gopal Gokul Valbhe Priya Gop Gosut Valbham)

करवा चौथ व्रत कथा: द्रौपदी को श्री कृष्ण ने सुनाई कथा! (Karwa Chauth Vrat Katha)

शुक्रवार संतोषी माता व्रत कथा (Shukravar Santoshi Mata Vrat Katha)

भजन: ओ सांवरे हमको तेरा सहारा है (O Sanware Humko Tera Sahara Hai)

श्री नारायण कवच (Shri Narayan Kavach)

होली भजन: फाग खेलन बरसाने आये हैं, नटवर नंद किशोर (Holi Bhajan: Faag Khelan Barasane Aaye Hain Natwar Nand Kishore)

मेरी आखिओं के सामने ही रहना: भजन (Meri Akhion Ke Samne Hi Rehina Oh Shero Wali Jagdambe)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 11 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 11)