भजन: करदो करदो बेडा पार राधे अलबेली सरकार (Kardo Kardo Beda Paar Radhe Albeli Sarkar)

करदो करदो बेडा पार,

राधे अलबेली सरकार ।

राधे अलबेली सरकार,

राधे अलबेली सरकार ॥



करदो करदो बेडा पार,

राधे अलबेली सरकार ।

राधे अलबेली सरकार,

राधे अलबेली सरकार ॥



बार बार श्री राधे हमको,

वृन्दावन में बुलाना । ..x2

आप भी दर्शन देना,

बिहारी जी से भी मिलवाना ।

यही है विनती बारम्बार,

राधे अलबेली सरकार ॥



राधे अलबेली सरकार,

राधे अलबेली सरकार ॥



करदो करदो बेडा पार,

राधे अलबेली सरकार ।

राधे अलबेली सरकार,

राधे अलबेली सरकार ॥



तेरी कृपा बिना श्री राधे,

कोई ना ब्रिज में आये । ..x2

तेरी कृपा जो हो जाए,

तो भवसागर तर जाए।

तेरी महिमा अपरम्पार,

राधे अलबेली सरकार ॥



राधे अलबेली सरकार,

राधे अलबेली सरकार ॥



करदो करदो बेडा पार,

राधे अलबेली सरकार ।

राधे अलबेली सरकार,

राधे अलबेली सरकार ॥



तेरी कृपा से राधा रानी,

बनते हैं सब काम । ..x2

छोड़ के सारी दुनियादारी,

आगए तेरे धाम ।

सुन लो मेरी करुण पुकार,

राधे अलबेली सरकार॥



राधे अलबेली सरकार,

राधे अलबेली सरकार ॥



करदो करदो बेडा पार,

राधे अलबेली सरकार ।

राधे अलबेली सरकार,

राधे अलबेली सरकार ॥



वृन्दावन की गली गली में,

धूम मची हैं भारी । ..x2

श्री राधे राधे बोल बोल के,

झूम रहे नर नारी ।

तेरी होवे जय जयकार,

राधे अलबेली सरकार ॥



राधे अलबेली सरकार,

राधे अलबेली सरकार ॥



करदो करदो बेडा पार,

राधे अलबेली सरकार ।

राधे अलबेली सरकार,

राधे अलबेली सरकार ॥

वंदना: ज्ञान का दान ही सबसे बड़ा हैं (Gyan Ka Daan Hi Sabse Bada Hai)

भजन: मन तड़पत हरि दर्शन को आज (Mann Tarpat Hari Darshan Ko Aaj)

श्रीदेवीजी की आरती - जगजननी जय! जय! (Shri Deviji Ki Aarti - Jaijanani Jai Jai)

श्री विश्वकर्मा आरती- जय श्री विश्वकर्मा प्रभु (Shri Vishwakarma Ji Ki Aarti)

कृपा की न होती जो, आदत तुम्हारी: भजन (Kirpa Ki Na Hoti Jo Addat Tumhari)

श्री गौमता जी की आरती (Shri Gaumata Ji Ki Aarti)

भजन: चंदन है इस देश की माटी (Chandan Hai Is Desh Ki Mati)

ऐ मुरली वाले मेरे कन्हैया, बिना तुम्हारे.. (Ae Murliwale Mere Kanhaiya, Bina Tumhare Tadap Rahe Hain)

श्री बृहस्पति देव की आरती (Shri Brihaspati Dev Ji Ki Aarti)

ॐ जय कलाधारी हरे - बाबा बालक नाथ आरती (Shri Baba Balaknath Aarti)

जय राधा माधव, जय कुन्ज बिहारी: भजन (Jai Radha Madhav, Jai Kunj Bihari)

शिवाष्ट्कम्: जय शिवशंकर, जय गंगाधर.. पार्वती पति, हर हर शम्भो (Shivashtakam: Jai ShivShankar Jai Gangadhar, Parvati Pati Har Har Shambhu)