जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया.. (Jail Main Prakate Krishn Kanhaiya)

जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया,

सबको बहुत बधाई है,

बहुत बधाई है,

सबको बहुत बधाई है,

जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैंया,

सबको बहुत बधाई है ॥



मात-पिता को सब समझाया,

मैं हू लीला करने आया,

जैसा कहु वैसा ही करना,

जगत भलाई है ॥

॥ जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैंया...॥



कैसा किया है जादू कमाल,

छोटे बन गये लड्डू गोपाल,

देखो अंगूठा चूसते,

मोहनी सूरत बनाई है ॥

॥ जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैंया...॥



बारिश पड़ रही मूसलाधार,

शेष नाग है सेवा दार,

यमूना जी की बाढ़,

ना जाने कहा समाई है ॥

॥ जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैंया...॥



जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया,

सबको बहुत बधाई है,

बहुत बधाई है,

सबको बहुत बधाई है,

जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैंया,

सबको बहुत बधाई है ॥

शिव आरती - ॐ जय गंगाधर (Shiv Aarti - Om Jai Gangadhar)

मैं तो आई वृन्दावन धाम, किशोरी तेरे चरनन में (Main Too Aai Vrindavan Dham Kishori Tere Charanan Main)

दुनिया मे देव हजारो हैं बजरंग बली का क्या कहना (Duniya Me Dev Hazaro Hai Bajrangbali Ka Kya Kahna)

शिव स्तुति: आशुतोष शशाँक शेखर (Shiv Stuti: Ashutosh Shashank Shekhar)

दैनिक हवन-यज्ञ विधि! (Dainik Havan Yagy Vidhi)

श्री सत्यनारायण जी आरती (Shri Satyanarayan Ji Ki Aarti)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 4 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 4)

भजन: जिसने मरना सीखा लिया है (Jisane Marana Seekh Liya Hai)

दीप प्रज्वलन मंत्र: शुभं करोति कल्याणम् आरोग्यम् (Deep Prajwalan Mantra: Shubham Karoti Kalyanam Aarogyam)

दुर्गा है मेरी माँ, अम्बे है मेरी माँ: भजन (Durga Hai Meri Maa Ambe Hai Meri Maa)

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की (Kunj Bihari Shri Girdhar Krishna Murari)

भजन: ऐसो चटक मटक सो ठाकुर.. (Aiso Chatak Matak So Thakur)