श्री बद्रीनाथजी की आरती (Shri Badrinath Aarti)

पवन मंद सुगंध शीतल,

हेम मंदिर शोभितम् ।

निकट गंगा बहत निर्मल,

श्री बद्रीनाथ विश्व्म्भरम् ॥



शेष सुमिरन करत निशदिन,

धरत ध्यान महेश्वरम् ।

वेद ब्रह्मा करत स्तुति,

श्री बद्रीनाथ विश्वम्भरम् ॥

॥ पवन मंद सुगंध शीतल...॥



शक्ति गौरी गणेश शारद,

नारद मुनि उच्चारणम् ।

जोग ध्यान अपार लीला,

श्री बद्रीनाथ विश्व्म्भरम् ॥

॥ पवन मंद सुगंध शीतल...॥



इंद्र चंद्र कुबेर धुनि कर,

धूप दीप प्रकाशितम् ।

सिद्ध मुनिजन करत जय जय,

बद्रीनाथ विश्व्म्भरम् ॥

॥ पवन मंद सुगंध शीतल...॥



यक्ष किन्नर करत कौतुक,

ज्ञान गंधर्व प्रकाशितम् ।

श्री लक्ष्मी कमला चंवरडोल,

श्री बद्रीनाथ विश्व्म्भरम् ॥

॥ पवन मंद सुगंध शीतल...॥



कैलाश में एक देव निरंजन,

शैल शिखर महेश्वरम् ।

राजयुधिष्ठिर करत स्तुति,

श्री बद्रीनाथ विश्व्म्भरम् ॥

॥ पवन मंद सुगंध शीतल...॥



श्री बद्रजी के पंच रत्न,

पढ्त पाप विनाशनम् ।

कोटि तीर्थ भवेत पुण्य,

प्राप्यते फलदायकम् ॥

॥ पवन मंद सुगंध शीतल...॥



पवन मंद सुगंध शीतल,

हेम मंदिर शोभितम् ।

निकट गंगा बहत निर्मल,

श्री बद्रीनाथ विश्व्म्भरम् ॥

राम नाम लड्डू, गोपाल नाम घी.. (Ram Naam Ladd, Gopal Naam Gee)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 4 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 4)

दे दो अपनी पुजारन को वरदान माँ: भजन (Dedo Apni Pujarin Ko Vardan Maa)

अजब हैरान हूं भगवन! तुम्हें कैसे रिझाऊं मैं। (Ajab Hairan Hoon Bhagawan Tumhen Kaise Rijhaon Main)

श्री शाकुम्भरी देवी जी की आरती (Shakumbhari Devi Ki Aarti)

भजन: बृन्दावन का कृष्ण कन्हैया (Brindavan Ka Krishan Kanhaiya Sabki Aankhon Ka Tara)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 11 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 11)

भजन: हमारे दो ही रिश्तेदार (Hamare Do Hi Rishtedar)

संकट के साथी को हनुमान कहते हैं: भजन (Sankat Ke Sathi Ko Hanuman Kahate Hain)

बांके बिहारी की देख छटा: भजन (Banke Bihari Ki Dekh Chhata)

करलो करलो चारो धाम, मिलेंगे कृष्ण, मिलेंगे राम (Karlo Karlo Charo Dham)

जन्माष्टमी भजन: नन्द के आनंद भयो (Nand Ke Anand Bhayo)