पंच परमेष्ठी आरती (Panch Parmeshthi Aarti)

इह विधि मंगल आरति कीजे,

पंच परमपद भज सुख लीजे ।

इह विधि मंगल आरति कीजे,

पंच परमपद भज सुख लीजे ॥



पहली आरति श्रीजिनराजा,

भव दधि पार उतार जिहाजा ।

इह विधि मंगल आरति कीजे,

पंच परमपद भज सुख लीजे ॥



दूसरी आरति सिद्धन केरी,

सुमिरन करत मिटे भव फेरी ।

इह विधि मंगल आरति कीजे,

पंच परमपद भज सुख लीजे ॥



तीजी आरति सूरि मुनिंदा,

जनम मरन दु:ख दूर करिंदा ।

इह विधि मंगल आरति कीजे,

पंच परमपद भज सुख लीजे ॥



चौथी आरति श्री उवझाया,

दर्शन देखत पाप पलाया ।

इह विधि मंगल आरति कीजे,

पंच परमपद भज सुख लीजे ॥



पाँचमि आरति साधु तिहारी,

कुमति विनाशन शिव अधिकारी ।

इह विधि मंगल आरति कीजे,

पंच परमपद भज सुख लीजे ॥



छट्ठी ग्यारह प्रतिमाधारी,

श्रावक वंदूं आनंदकारी ।

इह विधि मंगल आरति कीजे,

पंच परमपद भज सुख लीजे ॥



सातमि आरति श्रीजिनवानी,

‘द्यानत’ सुरग मुकति सुखदानी ।

इह विधि मंगल आरति कीजे,

पंच परमपद भज सुख लीजे ॥

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 27 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 27)

सावन भजन: आई बागों में बहार, झूला झूले राधा प्यारी (Aai Bhagon Me Bahar Jhula Jhule Radha Rani)

भजन: जय हो शिव भोला भंडारी! (Jai Ho Shiv Bhola Bhandari Lela Aprampar Tumhari Bhajan)

आजा माँ तेनु अखियां उडीकदीयां: भजन (Aja Maa Tenu Ankhiyan Udeekdiyan)

मंत्र: माँ गायत्री (Maa Gayatri)

हो लाल मेरी पत रखियो बला - दमादम मस्त कलन्दर: भजन (O Lal Meri Pat Rakhiyo Bala Duma Dum Mast Kalandar)

भजन: भारत के लिए भगवन का एक वरदान है गंगा! (Bharat Ke Liye Bhagwan Ka Ek Vardan Hai Maa Ganga)

दुनिया बावलियों बतलावे.. श्री श्याम भजन (Duniyan Bawaliyon Batlawe)

जानकी नाथ सहाय करें.. (Janaki Nath Sahay Kare)

कहियो दर्शन दीन्हे हो, भीलनियों के राम: भजन (Kahiyo Darshan Dinhe Ho Bhilaniyo Ke Ram)

भजन: श्याम तेरी बंसी पुकारे राधा नाम! (Shyam Teri Bansi Pukare Radha Naam)

भजन: मेरी विनती यही है! राधा रानी (Meri Binti Yahi Hai Radha Rani)