आरती: ॐ जय महावीर प्रभु (Om Jai Mahaveer Prabhu)

ॐ जय महावीर प्रभु,

स्वामी जय महावीर प्रभो ।

जगनायक सुखदायक,

अति गम्भीर प्रभो ॥

॥ॐ जय महावीर प्रभु...॥



कुण्डलपुर में जन्में,

त्रिशला के जाये ।

पिता सिद्धार्थ राजा,

सुर नर हर्षाए ॥

॥ॐ जय महावीर प्रभु...॥



दीनानाथ दयानिधि,

हैं मंगलकारी ।

जगहित संयम धारा,

प्रभु परउपकारी ॥

॥ॐ जय महावीर प्रभु...॥



पापाचार मिटाया,

सत्पथ दिखलाया ।

दयाधर्म का झण्डा,

जग में लहराया ॥

॥ॐ जय महावीर प्रभु...॥



अर्जुनमाली गौतम,

श्री चन्दनबाला ।

पार जगत से बेड़ा,

इनका कर डाला ॥

॥ॐ जय महावीर प्रभु...॥



पावन नाम तुम्हारा,

जगतारणहारा ।

निसिदिन जो नर ध्यावे,

कष्ट मिटे सारा ॥

॥ॐ जय महावीर प्रभु...॥



करुणासागर! तेरी,

महिमा है न्यारी ।

ज्ञानमुनि गुण गावे,

चरणन बलिहारी ॥

॥ॐ जय महावीर प्रभु...॥



ॐ जय महावीर प्रभु,

स्वामी जय महावीर प्रभो ।

जगनायक सुखदायक,

अति गम्भीर प्रभो ॥




आरती: ॐ जय महावीर प्रभु
|
आरती: श्री महावीर भगवान - जय सन्मति देवा

कनकधारा स्तोत्रम्: अङ्गं हरेः पुलकभूषणमाश्रयन्ती (Kanakadhara Stotram: Angam Hareh Pulaka Bhusanam Aashrayanti)

कान्हा वे असां तेरा जन्मदिन मनावणा (Kahna Ve Assan Tera Janmdin Manavna)

जो विधि कर्म में लिखे विधाता: भजन (Jo Vidhi Karam Me Likha Vidhata)

भजन: बजरंग के आते आते कही भोर हो न जाये रे... (Bajrang Ke Aate 2 Kahin Bhor Ho Na Jaye Re)

राधाकृष्ण प्राण मोर युगल-किशोर ( RadhaKrishn Prana Mora Yugal Kishor)

ले चल अपनी नागरिया, अवध बिहारी साँवरियाँ: भजन (Le Chal Apni Nagariya, Avadh Bihari Sanvariya)

॥दारिद्र्य दहन शिवस्तोत्रं॥ (Daridraya Dahana Shiv Stotram)

भजन: मुझे तूने मालिक, बहुत कुछ दिया है। (Mujhe Tune Malik Bahut Kuch Diya Hai)

पंच परमेष्ठी आरती (Panch Parmeshthi Aarti)

आए हैं प्रभु श्री राम, भरत फूले ना समाते: भजन (Aaye Hain Prabhu Shri Ram Bharat Fule Na Samate)

आ लौट के आजा हनुमान: भजन (Bhajan: Aa Laut Ke Aaja Hanuman)

जरा देर ठहरो राम तमन्ना यही है: भजन (Jara Der Thehro Ram Tamanna Yahi Hai)