गुरुदेव आरती - श्री नंगली निवासी सतगुरु (Guru Aarti - Shri Nangli Niwasi Satguru)

आरती श्री गुरुदेव जी की गाऊँ ।

बार-बार चरणन सिर नाऊँ ॥



त्रिभुवन महिमा गुरु जी की भारी ।

ब्रह्मा विष्णु जपे त्रिपुरारी ॥



राम कृष्ण भी बने पुजारी ।

आशीर्वाद में गुरु जी को पाऊं ॥



भव निधि तारण हार खिवैया ।

भक्तों के प्रभु पार लगैया ॥



भंवर बीच घूमे मेरी नैया ।

बार बार प्रभु शीष नवाऊँ ॥



ज्ञान दृष्टि प्रभु मो को दीजै ।

माया जनित दुख हर लीजै ॥



ज्ञान भानु प्रकाश करीजै ।

आवागमन को दुख नहीं पाऊं ॥



राम नाम प्रभु मोहि लखायो ।

रूप चतुर्भुज हिय दर्शायो ॥



नाद बिंदु पुनि ज्योति लखायो ।

अखंड ध्यान में गुरु जी को पाऊँ ॥



जय जयकार गुरु उपनायों ।

भव मोचन गुरु नाम कहायो ॥

श्री माताजी ने अमृत पायो ।

मेरो छोटो सो लड्डू गोपाल सखी री बड़ो प्यारो है (Mero Choto So Laddu Gopal Sakhi Ri Bado Pyaro Hai)

श्री लक्ष्मी सुक्तम् - ॐ हिरण्यवर्णां हरिणींसुवर्णरजतस्रजाम् (Sri Lakshmi Suktam - Om Hiranya Varnam)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 21 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 21)

पापमोचनी एकादशी व्रत कथा (Papmochani Ekadashi Vrat Katha)

राघवजी तुम्हें ऐसा किसने बनाया: भजन (Raghav Ji Tumhe Aisa Kisne Banaya)

भजन: बांटो बांटो मिठाई मनाओ ख़ुशी (Banto Banto Mithai Manao Khushi)

श्री झूलेलाल आरती- ॐ जय दूलह देवा! (Shri Jhulelal Om Jai Doolah Deva)

पौष पुत्रदा एकादशी व्रत कथा (Pausha Putrada Ekadashi Vrat Katha)

जगन्नाथ भगवान जी का भजन (Jagannath Bhagwan Ji Ka Bhajan)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 1 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 1)

इस योग्य हम कहाँ हैं, गुरुवर तुम्हें रिझायें: भजन (Is Yogya Ham Kahan Hain, Guruwar Tumhen Rijhayen)

श्री सिद्धिविनायक आरती: जय देव जय देव (Shri Siddhivinayak Aarti: Jai Dev Jai Dev)