प्रभु हम पे कृपा करना, प्रभु हम पे दया करना: भजन (Prabhu Humpe Daya Karna)

प्रभु हम पे कृपा करना,

प्रभु हम पे दया करना ।

बैकुंठ तो यही है,

हृदय में रहा करना ॥




गूंजेगे राग बन कर,


वीणा की तार बनके,


प्रगटोगे नाथ मेरे,


ह्रदय में प्यार बनके ।


हर रागिनी की धुन पर,


स्वर बन कर उठा करना,


बैकुंठ तो यही है,


हृदय में रहा करना ॥



प्रभु हम पे कृपा करना,

प्रभु हम पे दया करना ।

प्रभु हम पे कृपा करना,

प्रभु हम पे दया करना ।

बैकुंठ तो यही है,

हृदय में रहा करना ॥




नाचेंगे मोर बनकर,


हे श्याम तेरे द्वारे,


घनश्याम छाए रहना,


बनकर के मेघ कारे ।


बनकर के मेघ कारे ।


अमृत की धार बनकर,


प्यासों पे दया करना,


बैकुंठ तो यही है,


हृदय में रहा करना ॥



प्रभु हम पे कृपा करना,

प्रभु हम पे दया करना ।

प्रभु हम पे कृपा करना,

प्रभु हम पे दया करना ।

बैकुंठ तो यही है,

हृदय में रहा करना ॥




तेरे वियोग में हम,


दिन रात हैं उदासी,


अपनी शरण में लेलो,


हे नाथ ब्रज के वासी ।


हे नाथ ब्रज के वासी ।


तुम सो हम शब्द बन कर,


प्राणों में रमा करना,


बैकुंठ तो यही है,


हृदय में रहा करना ॥



प्रभु हम पे कृपा करना,

प्रभु हम पे दया करना ।

प्रभु हम पे कृपा करना,

प्रभु हम पे दया करना ।

बैकुंठ तो यही है,

हृदय में रहा करना ॥

हर हाल में खुश रहना: भजन (Har Haal Me Khush Rehna)

राम ही पार लगावेंगे: भजन (Ram Hi Paar Lagavenge)

गोबिंद चले चरावन गैया: भजन (Gobind Chale Charavan Gaiya)

शरण में आये हैं हम तुम्हारी: भजन (Sharan Mein Aaye Hain Hum Tumhari)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 13 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 13)

लगन तुमसे लगा बैठे, जो होगा देखा जाएगा। (Lagan Tumse Laga Baithe Jo Hoga Dekha Jayega)

धर्मराज आरती - ॐ जय धर्म धुरन्धर (Dharmraj Ki Aarti - Om Jai Dharm Dhurandar)

भजन: मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे (Meri Jholi Chhoti Padgayi Re Itna Diya Meri Mata)

करवा चौथ व्रत कथा: साहूकार के सात लड़के, एक लड़की की कहानी (Karwa Chauth Vrat Katha)

करवा चौथ व्रत कथा: द्रौपदी को श्री कृष्ण ने सुनाई कथा! (Karwa Chauth Vrat Katha)

भजन: सत्संगति से प्यार करना सीखोजी! (Bhajan: Sat Sangati Se Pyar Karana Sikho Ji)

सोमवती अमावस्या व्रत कथा (Somvati Amavasya Vrat Katha)