तू मेरा राखा सबनी थाई: गुरुवाणी शब्द कीर्तन (Tu Mera Rakha Sabni Thai)

तू मेरा राखा, सबनी थाई

तां भौ के हा काढा जी,

तां भौ के हा काढा जी,

तू मेरा राखा, सबनी थाई

तां भौ के हा काढा जी,

तां भौ के हा काढा जी



तुम्हारी किरपा ते तुद पछाणा,

तू मेरी ओट तू हैं मेरा माना

तू मेरी ओट तू हैं मेरा माना

तुझ बिन दूजा अवार ना कोई

सब तेरा खेल पासारो जी,

सब तेरा खेल पासारो जी

तू मेरा राखा, सबनी थाई

तां भौ के हा काढा जी,

तां भौ के हा काढा जी,



जिय जंत सब तुद उपाए,

जित जित भाणा तित तित लाये

सब किछ किता तेरा होवै

सब किछ किता तेरा होवै

नाही किछ असाडा जियो,

नाही किछ असाडा जियो

तू मेरा राखा, सबनी थाई

तां भौ के हा काढा जी,

तां भौ के हा काढा जी,



नाम ध्याये महा सुख पाया,

हर गुण गाऐ मेरा मन सितलाया

गुरु पुरे वाजी वधाई

नानक जिता बिखाङा जी,

नानक जिता बिखाङा जी,

तू मेरा राखा, सबनी थाई

तां भौ के हा काढा जी,

तां भौ के हा काढा जी,



तू मेरा राखा, सबनी थाई

तां भौ के हा काढा जी,

तां भौ के हा काढा जी,

तू मेरा राखा, सबनी थाई

तां भौ के हा काढा जी,

तां भौ के हा काढा जी,

तू मेरा पिता, तू हैं मेरा माता

तू मेरा बंधप, तू मेरा भ्राता

अन्नपूर्णा स्तोत्रम् - नित्यानन्दकरी वराभयकरी (Annapoorna Stotram - Nitya-nanda Karee Vara Abhaya Karee)

श्री शङ्कराचार्य कृतं - अर्धनारीनटेश्वर स्तोत्र॥ (Ardhnarishwar Stotram)

भजन: बजरंग के आते आते कही भोर हो न जाये रे... (Bajrang Ke Aate 2 Kahin Bhor Ho Na Jaye Re)

जय राधे, जय कृष्ण, जय वृंदावन: भजन (Jaya Radhe Jaya Krishna Jaya Vrindavan)

कई जन्मों से बुला रही हूँ: भजन (Kai Janmo Se Bula Rahi Hun)

दीप प्रज्वलन मंत्र: शुभं करोति कल्याणम् आरोग्यम् (Deep Prajwalan Mantra: Shubham Karoti Kalyanam Aarogyam)

लगन तुमसे लगा बैठे, जो होगा देखा जाएगा। (Lagan Tumse Laga Baithe Jo Hoga Dekha Jayega)

श्री युगलाष्टकम् - कृष्ण प्रेममयी राधा (Yugal Ashtakam - Krishna Premayi Radha)

जिसको नही है बोध, तो गुरु ज्ञान क्या करे (Jisko Nahi Hai Bodh Guru Gyan Kya Kare)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 2 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 2)

श्री चिंतपूर्णी देवी की आरती (Mata Shri Chintpurni Devi)

प्रभु हम पे कृपा करना, प्रभु हम पे दया करना: भजन (Prabhu Humpe Daya Karna)