भजन: नंद रानी तेरो लाला जबर भयो रे! (Nand Rani Tero Lala Zabar Bhayo Re)

नंद रानी तेरो लाला जबर भयो रे/री

महारानी तेरो लाला जबर भयो रे/री

मेरी मटकी उलट के पलट गयो रे/री ।



मुस्कान याकी लगे प्यारी प्यारी

पागल भयी यहाँ के सगरी ब्रजनारी

याकी बंशी पे जियरा अटक गयो रे ॥

॥ नंद रानी तेरो लाला जबर भयो रे..॥



पनघट पे आके करे जोर जोरी

चुपके से आके करे चित चोरी

मैया हल्ला मचो तो सटक गयो री ॥

॥ नंद रानी तेरो लाला जबर भयो रे..॥



घर घर में आकर के माखन चुरावे

खावे सो खावे जमी पे गिरावे

याको रोकबो हमारो खटक गयो री ॥

॥ नंद रानी तेरो लाला जबर भयो रे..॥



मैं तो दुखारी गरीब की मारी

जोर नहीं चलो तो दीन्ही रे गारी

मैया पैया कन्हिया चटक गयो री ॥



नंद रानी तेरो लाला जबर भयो रे/री

मेरी मटकी उलट के पलट गयो रे/री ।

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 11 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 11)

भजन: घर में पधारो गजानन जी! (Ghar Me Padharo Gajanan Ji)

भजन: कोई लाख करे चतुरायी (Koi Lakh Kare Chaturayi )

अगर नाथ देखोगे अवगुण हमारे: भजन (Agar Nath Dekhoge Avgun Humare)

भजन: बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया (Brij Ke Nandlala Radha Ke Sanwariya)

चित्रगुप्त की कथा - यम द्वितीया (Chitragupt Ji Ki Katha - Yam Dwitiya)

श्री गणेश मंत्र - गजाननं भूत गणादि सेवितं! (Shri Ganesh Mantr: Gajananam Bhoota Ganadhi Sevitam)

चक्रवर्ती राजा दिलीप की गौ-भक्ति कथा (Chakravarthi Raja Dileep Ki Gau Bhakti Katha)

हाथी का शीश ही क्यों श्रीगणेश के लगा? (Hathi Ka Sheesh Hi Kiyon Shri Ganesh Ke Laga?)

भजन: आ माँ आ तुझे दिल ने पुकारा। (Aa Maa Aa Tujhe Dil Ne Pukara)

आरती: श्री शनिदेव - जय जय श्री शनिदेव (Shri Shani Dev Ji)

भजन: बाँधा था द्रौपदी ने तुम्हे (Bandha Tha Draupadi Ne Tumhe Char Taar Main)