मिलता है सच्चा सुख केवल भगवान! (Milta Hai Sachha Sukh Keval Bhagwan Tere Charno Me)

मिलता है सच्चा सुख केवल भगवान् तुम्हारे चरणों में।

यह विनती है पल पल छिन की, रहे ध्यान तुम्हारे चरणों में॥



चाहे बैरी सब संसार बने, चाहे जीवन मुझ पर भार बने।

चाहे मौत गले का हार बने, रहे ध्यान तुम्हारे चरणों में॥

॥ मिलता है सच्चा सुख केवल...॥



चाहे अग्नि में मुझे जलना हो, चाहे काटों पे मुझे चलना हो।

चाहे छोडके देश निकलना हो, रहे ध्यान तुम्हारे चरणों में॥

॥ मिलता है सच्चा सुख केवल...॥



चाहे संकट ने मुझे घेरा हो, चाहे चारों ओर अँधेरा हो।

पर मन नहीं डग मग मेरा हो, रहे ध्यान तुम्हारे चरणों में॥

॥ मिलता है सच्चा सुख केवल...॥



जिव्हा पर तेरा नाम रहे, तेरा ध्यान सुबह और शाम रहे।

तेरी याद तो आठों याम रहे, रहे ध्यान तुम्हारे चरणों में॥



मिलता है सच्चा सुख केवल भगवान् तुम्हारे चरणों में।

यह विनती है पल पल छिन की, रहे ध्यान तुम्हारे चरणों में॥

ऐ मुरली वाले मेरे कन्हैया, बिना तुम्हारे.. (Ae Murliwale Mere Kanhaiya, Bina Tumhare Tadap Rahe Hain)

॥श्रीमहालक्ष्मीस्तोत्रम् विष्णुपुराणान्तर्गतम्॥ (Mahalakshmi Stotram From Vishnupuran)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 28 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 28)

श्री चित्रगुप्त जी की आरती - श्री विरंचि कुलभूषण (Shri Chitragupt Aarti - Shri Viranchi Kulbhusan)

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी: भजन (Ik Din Vo Bhole Bhandari Banke Braj Ki Nari)

भजन: कोई लाख करे चतुरायी (Koi Lakh Kare Chaturayi )

जागो वंशीवारे ललना, जागो मोरे प्यारे: भजन (Jago Bansivare Lalna Jago More Pyare)

जरी की पगड़ी बांधे, सुंदर आँखों वाला: भजन (Jari Ki Pagri Bandhe Sundar Ankhon Wala)

लड्डू गोपाल मेरा, छोटा सा है लला मेरा.. (Laddu Gopal Mera Chota Sa Hai Lalaa)

सजा दो घर को गुलशन सा: भजन (Sajado Ghar Ko Gulshan Sa)

पापमोचनी एकादशी व्रत कथा (Papmochani Ekadashi Vrat Katha)

प्रेम मुदित मन से कहो, राम राम राम: भजन (Prem Mudit Mann Se Kaho, Ram Ram Ram)