करो हरी का भजन प्यारे, उमरिया बीती जाती हे (Karo Hari Ka Bhajan Pyare, Umariya Beeti Jati Hai)

करो हरी का भजन प्यारे,

उमरिया बीती जाती हे,

पूरब शुभ कर्म करी आया,

मनुष्य तन पृथ्वी पर पाया,

फिर विषयो से भरमाया,

मौत याद नहीं आती हे ,

करो हरी का भजन प्यारे!



बालपन खेल में खोया,

जोबन में काम बस होया ;

बुढ़ापा खाट पर सोया,

आस मन को सतानि हे,

करो हरी का भजन प्यारे!



कुटुंब परिवार सूत दारा,

स्वप्न सम देख जग सारा ;

माया का जाल बिस्तारा ,

नहीं ये संग जाती हे

करो हरी का भजन प्यारे!



जो हरी के चरण चित लावे,

सो भवसागर से तर जावे ;

ब्रह्मानंद मोक्ष पद पावे,

वेद वानी सुनाती हे

करो हरी का भजन प्यारे!

दुर्गा है मेरी माँ, अम्बे है मेरी माँ: भजन (Durga Hai Meri Maa Ambe Hai Meri Maa)

भजन: मगन ईश्वर की भक्ति में.. (Magan Ishwar Ki Bhakti Me Are Mann Kiyon Nahin Hota)

आरती: श्री गणेश - शेंदुर लाल चढ़ायो (Shri Ganesh Shendur Laal Chadhayo)

भजन: काशी वाले, देवघर वाले, जय शम्भू। (Bhajan: Kashi Wale Devghar Wale Jai Shambu)

भजन: उठ जाग मुसाफिर भोर भई (Bhajan: Uth Jag Musafir Bhor Bhai)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 28 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 28)

अयोध्या नाथ से जाकर पवनसुत हाल कह देना: भजन (Ayodhya Nath Se Jakar Pawansut Hal Kah Dena )

श्री सिद्धिविनायक आरती: जय देव जय देव (Shri Siddhivinayak Aarti: Jai Dev Jai Dev)

भजमन राम चरण सुखदाई: भजन (Bhajman Ram Charan Sukhdayi)

होता है सारे विश्व का, कल्याण यज्ञ से। (Hota Hai Sare Vishwa Ka Kalyan Yajya Se)

मैं दो-दो माँ का बेटा हूँ: भजन (Main Do-Do Maa Ka Beta Hun)

जानकी स्तुति - भइ प्रगट किशोरी (Janaki Stuti - Bhai Pragat Kishori)