नमस्कार भगवन तुम्हें भक्तों का बारम्बार हो: भजन (Namaskar Bhagwan Tumhe Bhakton Ka Barambar Ho)

नमस्कार भगवन तुम्हें,

भक्तों का बारम्बार हो,

नमस्कार भगवन तुम्हें,

भक्तों का बारम्बार हो,

श्रद्धा रुपी भेंट हमारी,

मंगलमय स्वीकार हो

श्रद्धा रुपी भेंट हमारी,

मंगलमय स्वीकार हो ।



तुम कण कण में बसे हुए हो,

तुझ में जगत समाया है ।

तिनका हो चाहे पर्वत हो,

सभी तुम्हारी माया है ।

तुम दुनिया के हर प्राणी के,

जीवन के आधार हो ।

श्रद्धा रुपी भेंट हमारी,

मंगलमय स्वीकार हो ।



नमस्कार भगवन तुम्हें,

भक्तों का बारम्बार हो,

श्रद्धा रुपी भेंट हमारी,

मंगलमय स्वीकार हो ।



सबके सच्चे पिता तुम्ही हो,

तुम्ही जगत की माता हो ।

भाई बंधू सखा सहायक,

रक्षक पोषक दाता हो ।

चींटी से लेकर हाथी तक,

सबके सिरजनहार हो ।

श्रद्धा रुपी भेंट हमारी,

मंगलमय स्वीकार हो ।



नमस्कार भगवन तुम्हें,

भक्तों का बारम्बार हो,

श्रद्धा रुपी भेंट हमारी,

मंगलमय स्वीकार हो ।



ऋषि मुनि योगी जन सब,

तुमसे ही वर पाते हैं ।

क्या राजा क्या रंक तुम्हारे,

दर पर शीश झुकाते हैं ।

परम कृपालु परम दयालु,

करुणा के आधार हो ।

श्रद्धा रुपी भेंट हमारी,

मंगलमय स्वीकार हो ।



नमस्कार भगवन तुम्हें,

भक्तों का बारम्बार हो,

श्रद्धा रुपी भेंट हमारी,

मंगलमय स्वीकार हो ।



तूफानों से घिरे पथिक प्रभु,

तुम ही एक सहारा हो ।

डगमग डगमग नैया डोले,

तुम ही नाथ किनारा हो ।

तुम केवट हो इस नैया के,

और तुम ही पतवार हो ।



नमस्कार भगवन तुम्हें,

भक्तों का बारम्बार हो,

श्रद्धा रुपी भेंट हमारी,

मंगलमय स्वीकार हो ।

- आर्य समाज भजन

भजन: म्हाने जाम्भोजी दीयो उपदेश (Mhane Jambhoji Diyo Upadesh)

भजन: बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया (Brij Ke Nandlala Radha Ke Sanwariya)

तेरे दरबार मे मैया खुशी मिलती है: भजन (Tere Darbar Mein Maiya Khushi Milti Hai)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 29 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 29)

अगर श्याम सुन्दर का सहारा ना होता (Agar Shyam Sundar Ka Sahara Na Hota)

सतगुरु मैं तेरी पतंग: गुरु भजन (Satguru Main Teri Patang)

मन मेरा मंदिर, शिव मेरी पूजा: भजन (Man Mera Mandir Shiv Meri Pooja)

भजन: मुझे तूने मालिक, बहुत कुछ दिया है। (Mujhe Tune Malik Bahut Kuch Diya Hai)

कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे! (Kabhi Fursat Ho To Jagdambe)

कुछ नहीं बिगड़ेगा तेरा, हरी शरण आने के बाद (Kuch Nahi Bigadega Tera Hari Sharan Aane Ke Baad)

माँ दुर्गा देव्यापराध क्षमा प्रार्थना स्तोत्रं! (Maa Durga Kshama Prarthna Stotram)

भगवान राम के राजतिलक में निमंत्रण से छूटे भगवान चित्रगुप्त (Ram Ke Rajtilak Me Nimantran Se Chhute Bhagwan Chitragupt)