नमस्कार भगवन तुम्हें भक्तों का बारम्बार हो: भजन (Namaskar Bhagwan Tumhe Bhakton Ka Barambar Ho)

नमस्कार भगवन तुम्हें,

भक्तों का बारम्बार हो,

नमस्कार भगवन तुम्हें,

भक्तों का बारम्बार हो,

श्रद्धा रुपी भेंट हमारी,

मंगलमय स्वीकार हो

श्रद्धा रुपी भेंट हमारी,

मंगलमय स्वीकार हो ।



तुम कण कण में बसे हुए हो,

तुझ में जगत समाया है ।

तिनका हो चाहे पर्वत हो,

सभी तुम्हारी माया है ।

तुम दुनिया के हर प्राणी के,

जीवन के आधार हो ।

श्रद्धा रुपी भेंट हमारी,

मंगलमय स्वीकार हो ।



नमस्कार भगवन तुम्हें,

भक्तों का बारम्बार हो,

श्रद्धा रुपी भेंट हमारी,

मंगलमय स्वीकार हो ।



सबके सच्चे पिता तुम्ही हो,

तुम्ही जगत की माता हो ।

भाई बंधू सखा सहायक,

रक्षक पोषक दाता हो ।

चींटी से लेकर हाथी तक,

सबके सिरजनहार हो ।

श्रद्धा रुपी भेंट हमारी,

मंगलमय स्वीकार हो ।



नमस्कार भगवन तुम्हें,

भक्तों का बारम्बार हो,

श्रद्धा रुपी भेंट हमारी,

मंगलमय स्वीकार हो ।



ऋषि मुनि योगी जन सब,

तुमसे ही वर पाते हैं ।

क्या राजा क्या रंक तुम्हारे,

दर पर शीश झुकाते हैं ।

परम कृपालु परम दयालु,

करुणा के आधार हो ।

श्रद्धा रुपी भेंट हमारी,

मंगलमय स्वीकार हो ।



नमस्कार भगवन तुम्हें,

भक्तों का बारम्बार हो,

श्रद्धा रुपी भेंट हमारी,

मंगलमय स्वीकार हो ।



तूफानों से घिरे पथिक प्रभु,

तुम ही एक सहारा हो ।

डगमग डगमग नैया डोले,

तुम ही नाथ किनारा हो ।

तुम केवट हो इस नैया के,

और तुम ही पतवार हो ।



नमस्कार भगवन तुम्हें,

भक्तों का बारम्बार हो,

श्रद्धा रुपी भेंट हमारी,

मंगलमय स्वीकार हो ।

- आर्य समाज भजन

श्री गणेश मंत्र - गजाननं भूत गणादि सेवितं! (Shri Ganesh Mantr: Gajananam Bhoota Ganadhi Sevitam)

भजन: जिसने मरना सीखा लिया है (Jisane Marana Seekh Liya Hai)

अयोध्या नाथ से जाकर पवनसुत हाल कह देना: भजन (Ayodhya Nath Se Jakar Pawansut Hal Kah Dena )

गुरुदेव भजन (Guru Dev Bhajans)

दुनिया मे देव हजारो हैं बजरंग बली का क्या कहना (Duniya Me Dev Hazaro Hai Bajrangbali Ka Kya Kahna)

नगरी हो अयोध्या सी, रघुकुल सा घराना हो (Nagri Ho Ayodhya Si, Raghukul Sa Gharana Ho)

भजन: ना जाने कौन से गुण पर, दयानिधि रीझ जाते हैं! (Na Jane Kaun Se Gun Par Dayanidhi Reejh Jate Hain)

श्री लक्ष्मी के 108 नाम - श्रीलक्ष्मीष्टोत्तरशतनामावलिः (108 Mata Lakshmi Names)

शिव स्तुति: ॐ वन्दे देव उमापतिं सुरगुरुं (Shiv Stuti: Om Vande Dev Umapatin Surguru)

प्रभु मेरे मन को बना दे शिवाला! (Prabhu Mere Mann Ko Banado Shivalay)

माँ अन्नपूर्णा की आरती (Maa Annapurna Ji Ki Aarti)

बेलपत्र / बिल्वपत्र चढ़ाने का मंत्र (Belpatra Mantra)