न मैं धान धरती न धन चाहता हूँ: कामना (Na Dhan Dharti Na Dhan Chahata Hun: Kamana)

न मैं धान धरती न धन चाहता हूँ ।

कृपा का तेरी एक कण चाहता हूँ ॥




रहे नाम तेरा वो चाहूं मैं रसना ।


सुने यश तेरा वह श्रवण चाहता हूँ ॥



न मैं धान धरती न धन चाहता हूँ ।

कृपा का तेरी एक कण चाहता हूँ ॥




विमल ज्ञान धारा से मस्तिष्क उर्बर ।


व श्रद्धा से भरपूर मन चाहता हूँ ॥



न मैं धान धरती न धन चाहता हूँ ।

कृपा का तेरी एक कण चाहता हूँ ॥




करे दिव्य दर्शन तेरा जो निरन्तर ।


वही भाग्यशाली नयन चाहता हूँ ॥



न मैं धान धरती न धन चाहता हूँ ।

कृपा का तेरी एक कण चाहता हूँ ॥




नहीं चाहता है मुझे स्वर्ग छवि की ।


मैं केवल तुम्हें प्राण धन ! चाहता हूँ ॥



न मैं धान धरती न धन चाहता हूँ ।

कृपा का तेरी एक कण चाहता हूँ ॥




प्रकाश आत्मा में अलौकिक तेरा है ।


परम ज्योति प्रत्येक क्षण चाहता हूँ ॥



न मैं धान धरती न धन चाहता हूँ ।

कृपा का तेरी एक कण चाहता हूँ ॥

बताओ कहाँ मिलेगा श्याम: भजन (Batao Kahan Milega Shyam)

श्री महासरस्वती सहस्रनाम स्तोत्रम्! (Maha Sarasvati Sahastra Stotram)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 25 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 25)

भजन: लाड़ली अद्भुत नजारा, तेरे बरसाने में है (Ladli Adbhut Nazara, Tere Barsane Me Hai)

माँ! मुझे तेरी जरूरत है। (Maa! Mujhe Teri Jarurat Hai)

मंगल को जन्मे, मंगल ही करते: भजन (Mangal Ko Janme Mangal Hi Karte)

मंगल मूरति राम दुलारे: भजन (Mangal Murati Ram Dulare)

दूसरों का दुखड़ा दूर करने वाले: भजन (Doosron Ka Dukhda Door Karne Wale)

दुर्गा है मेरी माँ, अम्बे है मेरी माँ: भजन (Durga Hai Meri Maa Ambe Hai Meri Maa)

नमस्कार भगवन तुम्हें भक्तों का बारम्बार हो: भजन (Namaskar Bhagwan Tumhe Bhakton Ka Barambar Ho)

अथ दुर्गाद्वात्रिंशन्नाममाला - श्री दुर्गा द्वात्रिंशत नाम माला (Shri Durga Dwatrinshat Nam Mala)

मोहिनी एकादशी व्रत कथा (Mohini Ekadashi Vrat Katha)