न मैं धान धरती न धन चाहता हूँ: कामना (Na Dhan Dharti Na Dhan Chahata Hun: Kamana)

न मैं धान धरती न धन चाहता हूँ ।

कृपा का तेरी एक कण चाहता हूँ ॥




रहे नाम तेरा वो चाहूं मैं रसना ।


सुने यश तेरा वह श्रवण चाहता हूँ ॥



न मैं धान धरती न धन चाहता हूँ ।

कृपा का तेरी एक कण चाहता हूँ ॥




विमल ज्ञान धारा से मस्तिष्क उर्बर ।


व श्रद्धा से भरपूर मन चाहता हूँ ॥



न मैं धान धरती न धन चाहता हूँ ।

कृपा का तेरी एक कण चाहता हूँ ॥




करे दिव्य दर्शन तेरा जो निरन्तर ।


वही भाग्यशाली नयन चाहता हूँ ॥



न मैं धान धरती न धन चाहता हूँ ।

कृपा का तेरी एक कण चाहता हूँ ॥




नहीं चाहता है मुझे स्वर्ग छवि की ।


मैं केवल तुम्हें प्राण धन ! चाहता हूँ ॥



न मैं धान धरती न धन चाहता हूँ ।

कृपा का तेरी एक कण चाहता हूँ ॥




प्रकाश आत्मा में अलौकिक तेरा है ।


परम ज्योति प्रत्येक क्षण चाहता हूँ ॥



न मैं धान धरती न धन चाहता हूँ ।

कृपा का तेरी एक कण चाहता हूँ ॥

राधिके ले चल परली पार - भजन (Radhike Le Chal Parli Paar)

कामिका एकादशी व्रत कथा! (Kamika Ekadashi Vrat Katha)

सौराष्ट्रे सोमनाथं - द्वादश ज्योतिर्लिंग: मंत्र (Saurashtre Somanathan - Dwadas Jyotirlingani)

भवान्यष्टकम्न - तातो न माता (Bhavani Ashtakam)

भजन: बाँधा था द्रौपदी ने तुम्हे (Bandha Tha Draupadi Ne Tumhe Char Taar Main)

कान्हा वे असां तेरा जन्मदिन मनावणा (Kahna Ve Assan Tera Janmdin Manavna)

मेरो छोटो सो लड्डू गोपाल सखी री बड़ो प्यारो है (Mero Choto So Laddu Gopal Sakhi Ri Bado Pyaro Hai)

यही आशा लेकर आती हूँ: भजन (Bhajan: Yahi Aasha Lekar Aati Hu)

श्री शनि अष्टोत्तर-शतनाम-नामावली (Shani Ashtottara Shatnam Namavali)

तेरी सूरत पे जाऊं बलिहार रसिया: भजन (Teri Surat Pe Jaun Balihari Rasiya)

हम तो दीवाने मुरलिया के, अजा अजा रे लाल यशोदा के (Hum Too Diwane Muraliya Ke Aaja Aaje Re Lal Yashoda Ke)

मिलता है सच्चा सुख केवल भगवान! (Milta Hai Sachha Sukh Keval Bhagwan Tere Charno Me)