ना मन हूँ ना बुद्धि ना चित अहंकार: भजन (Na Mann Hun Na Buddhi Na Chit Ahankar)

ना मन हूँ, ना बुद्धि, ना चित अहंकार

ना जिव्या नयन नासिका करण द्वार

ना मन हूँ, ना बुद्धि, ना चित अहंकार

ना जिव्या नयन नासिका करण द्वार



ना चलता ना रुकता ना कहता ना सुनता

जगत चेतना हूँ, अनादि अनन्ता

ना चलता ना रुकता ना कहता ना सुनता

जगत चेतना हूँ, अनादि अनन्ता



ना मैं प्राण हूँ ना ही हूँ पंच वायु

ना मुज्मे घृणा ना कोई लगाव

ना लोभ मोह इर्ष्या ना अभिमान भाव

धन धर्म काम मोक्ष सब अप्रभाव

मैं धन राग, गुणदोष विषय परियांता

जगत चेतना हूँ, अनादि अनन्ता

जगत चेतना हूँ, अनादि अनन्ता



मैं पुण्य ना पाप, सुख दुःख से विलग हूँ

ना मंत्र, ना ज्ञान, ना तीर्थ और यज्ञ हूँ

ना भोग हूँ, ना भोजन, ना अनुभव ना भोक्ता

जगत चेतना हूँ, अनादि अनन्ता

जगत चेतना हूँ, अनादि अनन्ता



ना मृत्यु का भय है, ना मत भेद जाना

ना मेरा पिता माता, मैं हूँ अजन्मा

निराकार साकार, शिव सिद्ध संता

जगत चेतना हूँ, अनादि अनन्ता

जगत चेतना हूँ, अनादि अनन्ता



मैं निरलिप्त निरविकल्,प सूक्ष्म जगत हूँ

हूँ चैतन्य रूप, और सर्वत्र व्याप्त हूँ

मैं हूँ भी नहीं, और कण कण रमता

जगत चेतना हूँ, अनादि अनन्ता

जगत चेतना हूँ, अनादि अनन्ता



ये भौतिक चराचर, ये जगमग अँधेरा

ये उसका ये इसका, ये तेरा ये मेरा

ये आना ये जाना, लगाना है फेरा

ये नाश्वर, जगत थोड़े दिन का, है डेरा

ये प्रश्नों, में उत्तर, हुनिहित दिगंत

जगत चेतना हूँ, अनादि अनन्ता

जगत चेतना हूँ, अनादि अनन्ता



ना मन हूँ, ना बुद्धि, ना चित अहंकार

ना जिव्या नयन नासिका, करण द्वार

ना मन हूँ, ना बुद्धि, ना चित अहंकार

ना जिव्या नयन नासिका, करण द्वार



ना चलता, ना रुकता, ना कहता, ना सुनता

जगत चेतना हूँ, अनादि अनन्ता

ना चलता, ना रुकता, ना कहता, ना सुनता

जगत चेतना हूँ, अनादि अनन्ता

जगत चेतना हूँ, अनादि अनन्ता

जगत चेतना हूँ, अनादि अनन्ता

भजन: उठ जाग मुसाफिर भोर भई (Bhajan: Uth Jag Musafir Bhor Bhai)

भजन: बाल गोपाला, प्यारे मुरारी मोरे नन्द लाला! (Bhajan: Baal Gopala Pyare Murari More Nandlala)

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी: भजन (Darshan Do Ghansyam Nath Mori Akhiyan Pyasi Re)

मारने वाला है भगवान, बचाने वाला है भगवान: भजन (Marne Wala Hai Bhagwan Bachane Wala Hai Bhagwan)

राम के दुलारे, माता जानकी के प्यारे: भजन (Ram Ke Dulare, Mata Janki Ke Pyare)

महा शिवरात्रि पूजन पौराणिक व्रत कथा (Maha Shivaratri Pujan Pauranik Vrat Katha)

श्री विष्णु स्तुति - शान्ताकारं भुजंगशयनं (Shri Vishnu Stuti - Shantakaram Bhujagashayanam)

श्री दशावतार स्तोत्र: प्रलय पयोधि-जले (Dashavtar Stotram: Pralay Payodhi Jale)

कैलाश के निवासी नमो बार बार हूँ (Kailash Ke Nivasi Namo Bar Bar Hoon)

होता है सारे विश्व का, कल्याण यज्ञ से। (Hota Hai Sare Vishwa Ka Kalyan Yajya Se)

दर्द किसको दिखाऊं कन्हैया: भजन (Dard Kisako Dikhaun Kanaiya)

उत्पन्ना एकादशी व्रत कथा (Utpanna Ekadashi Vrat Katha)