हे मुरलीधर छलिया मोहन: भजन (Hey Muralidhar Chhaliya Mohan)

हे मुरलीधर छलिया मोहन,

हम भी तुमको दिल दे बैठे,

गम पहले से ही कम तो ना थे,

एक और मुसीबत ले बैठे,

हे मुरलिधर छलिया मोहन,

हम भी तुमको दिल दे बैठे ॥



दिल कहता है तुम सुन्दर हो,

आँखे कहती है दिखलाओ,

तुम मिलते नही हो आकर के,

हम कैसे कहे देखो ये बैठे,

हे मुरलिधर छलिया मोहन,

हम भी तुमको दिल दे बैठे ॥



महिमा सुनके हैरान है हम,

तुम मिल जाओ तो चैन मिले,

मन खोज के भी तुम्हे पाता नही,

तुम हो की उसी मन में बैठे,

हे मुरलिधर छलिया मोहन,

हम भी तुमको दिल दे बैठे ॥



राजेश्वर राजाराम तुम्ही,

प्रभु योगेशेवर घनश्याम तुम्ही,

धनुधारी बने कभी मुरली बजा,

यमुना तट निज जन में बैठे,

हे मुरलिधर छलिया मोहन,

हम भी तुमको दिल दे बैठे ॥



हे मुरलीधर छलिया मोहन,

हम भी तुमको दिल दे बैठे,

गम पहले से ही कम तो ना थे,

एक और मुसीबत ले बैठे,

हे मुरलिधर छलिया मोहन,

हम भी तुमको दिल दे बैठे ॥

हिम्मत ना हारिए, प्रभु ना बिसारिए: भजन (Himmat Na Hariye, Prabhu Na Bisraiye)

ॐ शंकर शिव भोले उमापति महादेव: भजन (Shankar Shiv Bhole Umapati Mahadev)

भजन: पायो जी मैंने राम रतन धन पायो। (Bhajan: Piyo Ji Maine Ram Ratan Dhan Payo)

आरती श्री भगवद्‍ गीता (Aarti Shri Bhagwat Geeta)

अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं: भजन (Achyutam Keshavam Krishna Damodaram)

मेरे भोले बाबा को अनाड़ी मत समझो: शिव भजन (Mere Bhole Baba Ko Anadi Mat Samjho)

भजन: घर में पधारो गजानन जी! (Ghar Me Padharo Gajanan Ji)

भजन: जो खेल गये प्राणो पे, श्री राम के लिए! (Jo Khel Gaye Parano Pe Bhajan)

आरती: श्री बाल कृष्ण जी (Aarti: Shri Bal Krishna Ki Keejen)

बांके बिहारी की देख छटा: भजन (Banke Bihari Ki Dekh Chhata)

होली खेल रहे नंदलाल: होली भजन (Holi Bhajan: Holi Khel Rahe Nandlal)

प्रेरक कथा: श्री कृष्ण मोर से, तेरा पंख सदैव मेरे शीश पर होगा! (Prerak Katha Shri Krishn Mor Se Tera Aankh Sadaiv Mere Shish)