मंगल को जन्मे, मंगल ही करते: भजन (Mangal Ko Janme Mangal Hi Karte)

मंगल को जन्मे,

मंगल ही करते,

मंगलमय भगवान,

जय हनुमान,
जय हनुमान
,

जय हनुमान, जय जय हनुमान ॥



मंगल को जन्में,

मंगल ही करते,

मंगलमय भगवान,

जय हनुमान, जय हनुमान,

जय हनुमान, जय जय हनुमान ॥



कोई तुम्हारे अतुलित बल का,

कर ना सका अनुमान,

नहीं तुमसा कोई चतुर कपीश्वर,

नहीं तुमसा बलवान,

जय हनुमान, जय हनुमान,

जय हनुमान, जय जय हनुमान ॥



मंगल को जन्में,

मंगल ही करते,

मंगलमय भगवान,

जय हनुमान, जय हनुमान,

जय हनुमान, जय जय हनुमान ॥



लाल देह लाली लसे,

अरू धरि लाल लँगूर,

बज्र देह दानव दलन,

जय जय जय कपि सूर ॥



मस्तक मणि से दिनमणि लाजे,

अतिशय कुण्डल कानन राजे,

लाल लाल बाना तन साजे,

पूर्ण समर्पित रघुवर काजे,

संकट मोचन देव तुम्हारे,

राजीव लोचन प्राण,

जय हनुमान, जय हनुमान,

जय हनुमान, जय जय हनुमान ॥



मंगल को जन्मे,

मंगल ही करते,

मंगलमय भगवान,

जय हनुमान, जय हनुमान,

जय हनुमान, जय जय हनुमान ॥

काली कमली वाला मेरा यार है: भजन (Kali Kamali Wala Mera Yar Hai)

पंच परमेष्ठी आरती (Panch Parmeshthi Aarti)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 9 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 9)

मैं तो तेरी हो गई श्याम: भजन (Me Too Teri Hogai Shayam, Dunyan Kya Jane)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 6 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 6)

अजब हैरान हूं भगवन! तुम्हें कैसे रिझाऊं मैं। (Ajab Hairan Hoon Bhagawan Tumhen Kaise Rijhaon Main)

आनंद ही आनंद बरस रहा: भजन (Aanand Hi Aanand Baras Raha)

मेरी भावना: जिसने राग-द्वेष कामादिक - जैन पाठ (Meri Bawana - Jisne Raag Dwesh Jain Path)

बेलपत्र / बिल्वपत्र चढ़ाने का मंत्र (Belpatra Mantra)

अरे द्वारपालों कहना से कह दो: भजन (Are Dwarpalo Kanhaiya Se Keh Do)

जन्माष्टमी भजन: बड़ा नटखट है रे, कृष्ण कन्हैया! (Bada Natkhat Hai Re Krishn Kanhaiya)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 26 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 26)