मत घबरा मन बावरे... (Mat Ghabra Mann Baware)

मत घबरा मन बावरे,

है श्याम तेरा रखवाला,

है श्याम तेरा रखवाला॥



मत घबरा मन बावरे,

है श्याम तेरा रखवाला,

है श्याम तेरा रखवाला॥

साथ तुम्हारा कभी ना छोड़े,

मोहन मुरली वाला,

मत घबरा मन बावरे,

है श्याम तेरा रखवाला,

है श्याम तेरा रखवाला॥



करे कृपा जब सांवरा,

सब संकट कट जाए,

आग लगी चहुँ ओर हो,

तुझपर आंच ना आए,

करुणा की जब वर्षा होती,

क्या कर सकती ज्वाला,

॥ मत घबरा मन बावरें...॥



जग वाले मुँह मोड़ ले,

दुश्मन बने जमाना।

ये तू निश्चय जान ले,

निर्बल का बल कान्हा।

तुफानो में दीपक जलता,

कौन बुझाने वाला।

॥ मत घबरा मन बावरें...॥



तू कमजोर नहीं है,

तेरे साथ कन्हैया।

तेरे ऊपर पड़ रही,

मोर मुकुट की छैया।

बिन्नू इस शीतल छैया में,

फेर श्याम की माला।

॥ मत घबरा मन बावरें...॥



मत घबरा मन बावरे,

है श्याम तेरा रखवाला,

है श्याम तेरा रखवाला,

साथ तुम्हारा कभी ना छोड़े,

मोहन मुरली वाला,

॥ मत घबरा मन बावरें...॥



मत घबरा मन बावरे,

है श्याम तेरा रखवाला,

है श्याम तेरा रखवाला॥






Read Also:

»
श्री शङ्कराचार्य कृतं - अच्युतस्याष्टकम्

»
जन्माष्टमी - Janmashtami

»
दिल्ली और आस-पास के प्रसिद्ध श्री कृष्ण मंदिर।

»
जानें दिल्ली मे ISKCON मंदिर कहाँ-कहाँ हैं?

»
दिल्ली के प्रमुख श्री कृष्ण प्रणामी मंदिर।

»
ब्रजभूमि के प्रसिद्ध मंदिर!

»
आरती: श्री बाल कृष्ण जी
|
बधाई भजन: लल्ला की सुन के मै आयी!

तुलसी आरती - महारानी नमो-नमो (Tulsi Aarti - Maharani Namo Namo)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 12 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 12)

मुकुट सिर मोर का, मेरे चित चोर का: भजन (Mukut Sir Mor Ka, Mere Chit Chor Ka)

सतगुरु मैं तेरी पतंग: गुरु भजन (Satguru Main Teri Patang)

भजन: कुमार मैने देखे, सुंदर सखी दो कुमार! (Bhajan: Kumar Maine Dekhe, Sundar Sakhi Do Kumar)

श्री विश्वकर्मा आरती- जय श्री विश्वकर्मा प्रभु (Shri Vishwakarma Ji Ki Aarti)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 19 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 19)

श्री जगन्नाथ संध्या आरती (Shri Jagganath Sandhya Aarti)

हम तो दीवाने मुरलिया के, अजा अजा रे लाल यशोदा के (Hum Too Diwane Muraliya Ke Aaja Aaje Re Lal Yashoda Ke)

प्रेम मुदित मन से कहो, राम राम राम: भजन (Prem Mudit Mann Se Kaho, Ram Ram Ram)

आरती: वैष्णो माता (Aarti: Vaishno Mata)

महिषासुरमर्दिनि स्तोत्रम् - अयि गिरिनन्दिनि (Mahishasura Mardini Stotram - Aigiri Nandini)