धनवानों का मान है जग में.. (Dhanawanon Ka Mann Hai Jag Mein)

धनवानों का मान है जग में,

निर्धन का कोई मान नहीं ।

ए मेरे भगवन बता दे,

निर्धन क्या इन्सान नहीं ॥



पास किसी के हीरे मोती,

पास किसी के लंगोटी है ।

दूध मलाई खाए कोई,

कोई सूखी रोटी है ।

मुझे पता क्या तेरे राज्य में,

निर्धन का सम्मान नहीं ॥



धनवानों का मान है जग में,

निर्धन का कोई मान नहीं ।

ए मेरे भगवन बता दे,

निर्धन क्या इन्सान नहीं ॥



एक को सुख साधन,

फिर क्यों एक को दुःख देते हो ।

नंगे पाँव दौड़ लगाकर,

खबर किसी की लेते हो ।

लोग कहे भगवन तुझे,

पर में कहता भगवन नहीं ॥



धनवानों का मान है जग में,

निर्धन का कोई मान नहीं ।

ए मेरे भगवन बता दे,

निर्धन क्या इन्सान नहीं ॥



भक्ति करे जो तेरी वो,

बैतरनी को तर जाये ।

जो न सुमरे तुम्हे,

भंवर के जाल में वो फस जाये ।

पहले रिश्वत लिए तो तारे,

क्या इसमें अपमान नहीं ॥



धनवानों का मान है जग में,

निर्धन का कोई मान नहीं ।

ए मेरे भगवन बता दे,

निर्धन क्या इन्सान नहीं ॥



तेरी जगत की रित में है क्या,

हो जग के रखवाले ।

दे ना सको अगर सुख का साधन,

तो मुजको तू बुलवाले ।

अर्जी तेरे है बच्चो की,

तू भी तो अनजान नहीं ॥



धनवानों का मान है जग में,

निर्धन का कोई मान नहीं ।

ए मेरे भगवन बता दे,

निर्धन क्या इन्सान नहीं ॥

आरती माँ लक्ष्मीजी - ॐ जय लक्ष्मी माता (Shri Laxmi Mata - Om Jai Lakshmi Mata)

देवोत्थान / प्रबोधिनी एकादशी व्रत कथा 2 (Devutthana Ekadashi Vrat Katha 2)

गुरुदेव आरती - श्री नंगली निवासी सतगुरु (Guru Aarti - Shri Nangli Niwasi Satguru)

आरती: श्री पार्वती माँ (Shri Parvati Maa)

आरती: ॐ जय महावीर प्रभु (Om Jai Mahavir Prabhu)

नमस्कार भगवन तुम्हें भक्तों का बारम्बार हो: भजन (Namaskar Bhagwan Tumhe Bhakton Ka Barambar Ho)

होली खेल रहे नंदलाल: होली भजन (Holi Bhajan: Holi Khel Rahe Nandlal)

हे दयामय आप ही संसार के आधार हो। (Hey Dayamay Aap Hi Sansar Ke Adhar Ho)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 2 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 2)

जन्माष्टमी भजन: नन्द के आनंद भयो (Nand Ke Anand Bhayo)

जन्माष्टमी भजन: बड़ा नटखट है रे, कृष्ण कन्हैया! (Bada Natkhat Hai Re Krishn Kanhaiya)

माँ मुरादे पूरी करदे हलवा बाटूंगी। (Maa Murade Puri Karde Main Halwa Batungi)