धनवानों का मान है जग में.. (Dhanawanon Ka Mann Hai Jag Mein)

धनवानों का मान है जग में,

निर्धन का कोई मान नहीं ।

ए मेरे भगवन बता दे,

निर्धन क्या इन्सान नहीं ॥



पास किसी के हीरे मोती,

पास किसी के लंगोटी है ।

दूध मलाई खाए कोई,

कोई सूखी रोटी है ।

मुझे पता क्या तेरे राज्य में,

निर्धन का सम्मान नहीं ॥



धनवानों का मान है जग में,

निर्धन का कोई मान नहीं ।

ए मेरे भगवन बता दे,

निर्धन क्या इन्सान नहीं ॥



एक को सुख साधन,

फिर क्यों एक को दुःख देते हो ।

नंगे पाँव दौड़ लगाकर,

खबर किसी की लेते हो ।

लोग कहे भगवन तुझे,

पर में कहता भगवन नहीं ॥



धनवानों का मान है जग में,

निर्धन का कोई मान नहीं ।

ए मेरे भगवन बता दे,

निर्धन क्या इन्सान नहीं ॥



भक्ति करे जो तेरी वो,

बैतरनी को तर जाये ।

जो न सुमरे तुम्हे,

भंवर के जाल में वो फस जाये ।

पहले रिश्वत लिए तो तारे,

क्या इसमें अपमान नहीं ॥



धनवानों का मान है जग में,

निर्धन का कोई मान नहीं ।

ए मेरे भगवन बता दे,

निर्धन क्या इन्सान नहीं ॥



तेरी जगत की रित में है क्या,

हो जग के रखवाले ।

दे ना सको अगर सुख का साधन,

तो मुजको तू बुलवाले ।

अर्जी तेरे है बच्चो की,

तू भी तो अनजान नहीं ॥



धनवानों का मान है जग में,

निर्धन का कोई मान नहीं ।

ए मेरे भगवन बता दे,

निर्धन क्या इन्सान नहीं ॥

हे रोम रोम मे बसने वाले राम! (Hey Rom Rom Main Basne Wale Ram)

हिम्मत ना हारिए, प्रभु ना बिसारिए: भजन (Himmat Na Hariye, Prabhu Na Bisraiye)

मेरी झोपड़ी के भाग, आज खुल जाएंगे: भजन (Meri Jhopdi Ke Bhag Aaj Khul Jayenge)

सच्चा है माँ का दरबार, मैय्या का जवाब नहीं: भजन (Saccha Hai Maa Ka Darbar, Maiya Ka Jawab Nahi)

भजन: शंकर जी का डमरू बाजे (Shankarji Ka Damroo Baje From Movie Bal Ganesh)

हमें गुरुदेव तेरा सहारा न मिलता (Hame Gurudev Tera Sahara Na Milata)

करवा चौथ व्रत कथा: द्रौपदी को श्री कृष्ण ने सुनाई कथा! (Karwa Chauth Vrat Katha)

तुने मुझे बुलाया शेरा वालिये: भजन (Tune Mujhe Bulaya Sherawaliye Bhajan)

जानकी स्तुति - भई प्रगट कुमारी (Janaki Stuti - Bhai Pragat Kumari)

आरती: वैष्णो माता (Aarti: Vaishno Mata)

भजन: भारत के लिए भगवन का एक वरदान है गंगा! (Bharat Ke Liye Bhagwan Ka Ek Vardan Hai Maa Ganga)

आरती युगलकिशोर की कीजै! (Aarti Shri Yugal Kishoreki Keejai)