लगन तुमसे लगा बैठे, जो होगा देखा जाएगा। (Lagan Tumse Laga Baithe Jo Hoga Dekha Jayega)

लगन तुमसे लगा बैठे,

जो होगा देखा जाएगा।

तुम्हें अपने बना बैठे,

जो होगा देखा जाएगा॥



कभी दुनिया से डरते थे,

के छुप छुप याद करते थे।

लो अब परदा उठा बैठे,

जो होगा देखा जाएगा॥

॥ लगन तुमसे लगा बैठे...॥



कभी यह ख्याल था दुनिया,

हमें बदनाम कर देगी।

शर्म अब बेच खा बैठे,

जो होगा देखा जाएगा॥

॥ लगन तुमसे लगा बैठे...॥



दीवाने बन गए तेरे,

तो फिर दुनिया से क्या मतलब।

तेरी चरणों में आ बैठे,

जो होगा देखा जाएगा॥

॥ लगन तुमसे लगा बैठे...॥



ऐसा बोल कर ही घर से निकले,

क्यूँकिआप भले ही।

लाखों की घड़ी हाथ में क्यूँ ना पहने हो॥



लगन तुमसे लगा बैठे,

जो होगा देखा जाएगा।

तुम्हें अपने बना बैठे,

जो होगा देखा जाएगा॥

भजन: दिया थाली बिच जलता है.. (Diya Thali Vich Jalta Hai)

प्रभुजी मोरे अवगुण चित ना धरो (Prabhuji More Avgun Chit Naa Dharo)

शंकर मेरा प्यारा.. माँ री माँ मुझे मूरत ला दे (Shankar Mera Pyara.. Maa Ri Maa Mujhe Murat La De)

वीर हनुमाना अति बलवाना: भजन (Veer Hanumana Ati Balwana)

भजन: मेरो मॅन लग्यॉ बरसाने मे (Mero Man Lagyo Barsane Mei Jaha Viraje Radharani)

भगवान श्री चित्रगुप्त जी की आरती (Bhagwan Shri Chitragupt Aarti)

करवा चौथ व्रत कथा: साहूकार के सात लड़के, एक लड़की की कहानी (Karwa Chauth Vrat Katha)

भजन: हमारे दो ही रिश्तेदार (Hamare Do Hi Rishtedar)

मन लेके आया, माता रानी के भवन में: भजन (Bhajan: Man Leke Aaya Mata Rani Ke Bhawan Me)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 26 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 26)

श्री चित्रगुप्त जी की आरती - श्री विरंचि कुलभूषण (Shri Chitragupt Aarti - Shri Viranchi Kulbhusan)

श्री शङ्कराचार्य कृतं - वेदसारशिवस्तोत्रम् (Vedsara Shiv Stotram)