हमें गुरुदेव तेरा सहारा न मिलता (Hame Gurudev Tera Sahara Na Milata)

हमें गुरुदेव तेरा सहारा न मिलता ।

ये जीवन हमारा दुबारा न खिलता ॥



साँसों की सरगम मध्यम हुई थी ।

जीने की आशा भी धूमिल हुई थी ।



तेरे नाम का जो सहारा न मिलता ।

ये जीवन हमारा दुबारा न खिलता ॥



रिश्तों की चौखट पे ठोकर है खाई ।

अपने परायों की समझ भी न आई ।



सच्चा जो तेरा रिश्ता न मिलता ।

ये जीवन हमारा दुबारा न खिलता ॥



किस्मत की मौजों ने कश्ती डुबोयी ।

जब सब लुटा तो तेरी याद आई ।



अगर मेरी किश्ती को सहारा न मिलता ।

ये जीवन हमारा दुबारा न खिलता ॥

रोहिणी शकट भेदन, दशरथ रचित शनि स्तोत्र कथा (Rohini Shakat Bhed Dasharath Rachit Shani Stotr Katha)

सदाशिव सर्व वरदाता, दिगम्बर हो तो ऐसा हो - भजन (Sada Shiv Sarva Var Data Digamber Ho To Aisa Ho)

भजन: खाटू का राजा मेहर करो (Khatu Ka Raja Mehar Karo)

सियारानी का अचल सुहाग रहे - भजन (Bhajan: Siyarani Ka Achal Suhag Rahe)

वीर हनुमाना अति बलवाना: भजन (Veer Hanumana Ati Balwana)

भजन: राम को देख कर के जनक नंदिनी, और सखी संवाद (Ram Ko Dekh Ke Janak Nandini Aur Sakhi Samvad)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 26 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 26)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 7 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 7)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 3 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 3)

कहा प्रभु से बिगड़ता क्या: भजन (Kaha Prabhu Se Bigadta Kya)

ॐ श्री विष्णु मंत्र: मङ्गलम् भगवान विष्णुः (Shri Vishnu Mantra)

शिव आरती - ॐ जय शिव ओंकारा (Shiv Aarti - Om Jai Shiv Omkara)