श्री बृहस्पति देव की आरती (Shri Brihaspati Dev Ji Ki Aarti)

हिन्दू धर्म में बृहस्पति देव को सभी देवताओं का गुरु माना जाता है। गुरुवार के व्रत में बृहस्पति देव की आरती करने का विधान माना जाता है, अतः श्री बृहस्पति देव की आरती निम्न लिखित है।




जय वृहस्पति देवा,


ऊँ जय वृहस्पति देवा ।


छिन छिन भोग लगा‌ऊँ,


कदली फल मेवा ॥



ऊँ जय वृहस्पति देवा,

जय वृहस्पति देवा ॥




तुम पूरण परमात्मा,


तुम अन्तर्यामी ।


जगतपिता जगदीश्वर,


तुम सबके स्वामी ॥



ऊँ जय वृहस्पति देवा,

जय वृहस्पति देवा ॥




चरणामृत निज निर्मल,


सब पातक हर्ता ।


सकल मनोरथ दायक,


कृपा करो भर्ता ॥



ऊँ जय वृहस्पति देवा,

जय वृहस्पति देवा ॥




तन, मन, धन अर्पण कर,


जो जन शरण पड़े ।


प्रभु प्रकट तब होकर,


आकर द्घार खड़े ॥



ऊँ जय वृहस्पति देवा,

जय वृहस्पति देवा ॥




दीनदयाल दयानिधि,


भक्तन हितकारी ।


पाप दोष सब हर्ता,


भव बंधन हारी ॥



ऊँ जय वृहस्पति देवा,

जय वृहस्पति देवा ॥




सकल मनोरथ दायक,


सब संशय हारो ।


विषय विकार मिटा‌ओ,


संतन सुखकारी ॥



ऊँ जय वृहस्पति देवा,

जय वृहस्पति देवा ॥




जो को‌ई आरती तेरी,


प्रेम सहित गावे ।


जेठानन्द आनन्दकर,


सो निश्चय पावे ॥



ऊँ जय वृहस्पति देवा,

जय वृहस्पति देवा ॥



सब बोलो विष्णु भगवान की जय ।

बोलो वृहस्पतिदेव भगवान की जय ॥




लक्ष्मी माता की आरती
|
ॐ जय जगदीश हरे आरती
|
अथ श्री बृहस्पतिवार व्रत कथा

भजन: ज्योत से ज्योत जगाते चलो.. (Bhajan: Jyot Se Jyot Jagate Chalo)

भजन: आ माँ आ तुझे दिल ने पुकारा। (Aa Maa Aa Tujhe Dil Ne Pukara)

जागो वंशीवारे ललना, जागो मोरे प्यारे: भजन (Jago Bansivare Lalna Jago More Pyare)

आज तो गुरुवार है, सदगुरुजी का वार है (Aaj To Guruwar hai, Sadguru Ka War Hai)

नर से नारायण बन जायें... (Nar Se Narayan Ban Jayen Prabhu Aisa Gyan Hamen Dena)

भजन: झूलन चलो हिंडोलना, वृषभान नंदनी (Jjhulan Chalo Hindolana Vrashbhanu Nandni)

दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया: भजन (Data Ek Ram Bhikhari Sari Duniya)

भजन: हे करुणा मयी राधे, मुझे बस तेरा सहारा है! (Hey Karuna Mayi Radhe Mujhe Bas Tera Sahara Hai)

विधाता तू हमारा है: प्रार्थना (Vidhata Tu Hamara Hai: Prarthana)

कृष्ण जिनका नाम है: भजन (Krishna Jinka Naam Hai Gokul Jinka Dham Hai Bhajan)

राम नाम सुखदाई, भजन करो भाई! (Ram Naam Sukhdai Bhajan Karo Bhai Yeh Jeevan Do Din Ka)

श्री जगन्नाथ संध्या आरती (Shri Jagganath Sandhya Aarti)