श्री बृहस्पति देव की आरती (Shri Brihaspati Dev Ji Ki Aarti)

हिन्दू धर्म में बृहस्पति देव को सभी देवताओं का गुरु माना जाता है। गुरुवार के व्रत में बृहस्पति देव की आरती करने का विधान माना जाता है, अतः श्री बृहस्पति देव की आरती निम्न लिखित है।




जय वृहस्पति देवा,


ऊँ जय वृहस्पति देवा ।


छिन छिन भोग लगा‌ऊँ,


कदली फल मेवा ॥



ऊँ जय वृहस्पति देवा,

जय वृहस्पति देवा ॥




तुम पूरण परमात्मा,


तुम अन्तर्यामी ।


जगतपिता जगदीश्वर,


तुम सबके स्वामी ॥



ऊँ जय वृहस्पति देवा,

जय वृहस्पति देवा ॥




चरणामृत निज निर्मल,


सब पातक हर्ता ।


सकल मनोरथ दायक,


कृपा करो भर्ता ॥



ऊँ जय वृहस्पति देवा,

जय वृहस्पति देवा ॥




तन, मन, धन अर्पण कर,


जो जन शरण पड़े ।


प्रभु प्रकट तब होकर,


आकर द्घार खड़े ॥



ऊँ जय वृहस्पति देवा,

जय वृहस्पति देवा ॥




दीनदयाल दयानिधि,


भक्तन हितकारी ।


पाप दोष सब हर्ता,


भव बंधन हारी ॥



ऊँ जय वृहस्पति देवा,

जय वृहस्पति देवा ॥




सकल मनोरथ दायक,


सब संशय हारो ।


विषय विकार मिटा‌ओ,


संतन सुखकारी ॥



ऊँ जय वृहस्पति देवा,

जय वृहस्पति देवा ॥




जो को‌ई आरती तेरी,


प्रेम सहित गावे ।


जेठानन्द आनन्दकर,


सो निश्चय पावे ॥



ऊँ जय वृहस्पति देवा,

जय वृहस्पति देवा ॥



सब बोलो विष्णु भगवान की जय ।

बोलो वृहस्पतिदेव भगवान की जय ॥




लक्ष्मी माता की आरती
|
ॐ जय जगदीश हरे आरती
|
अथ श्री बृहस्पतिवार व्रत कथा

मेरे बांके बिहारी लाल, तू इतना ना करिओ श्रृंगार (Mere Banke Bihari Lal Tu Itna Na Nario Shringar)

प्रभु रामचंद्र के दूता: भजन (Prabhu Ramachandra Ke Dootha)

श्रीदेवीजी की आरती - जगजननी जय! जय! (Shri Deviji Ki Aarti - Jaijanani Jai Jai)

गंगा के खड़े किनारे, भगवान् मांग रहे नैया: भजन (Ganga Ke Khade Kinare Bhagwan Mang Rahe Naiya)

पार करो मेरा बेडा भवानी - नवरात्रि भजन (Paar Karo Mera Beda Bhavani)

श्री सूर्य देव - ऊँ जय सूर्य भगवान (Shri Surya Dev Om Jai Surya Bhagwan)

प्रेम मुदित मन से कहो, राम राम राम: भजन (Prem Mudit Mann Se Kaho, Ram Ram Ram)

नवग्रहस्तोत्र (Navagrah Astotra)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 6 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 6)

भागवत कथा प्रसंग: कुंती ने श्रीकृष्ण से दुख क्यों माँगा? (Kunti Ne Shrikrishna Se Upahar Mein Dukh Kyon Manga)

हर महादेव आरती: सत्य, सनातन, सुंदर (Har Mahadev Aarti: Satya Sanatan Sundar)

तेरे दरबार मे मैया खुशी मिलती है: भजन (Tere Darbar Mein Maiya Khushi Milti Hai)