भजन: मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे (Meri Jholi Chhoti Padgayi Re Itna Diya Meri Mata)

मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे,

इतना दिया मेरी माता।



मेरी बिगड़ी माँ ने बनायीं,

सोयी तकदीर जगायी ।

ये बात ना सुनी सुनाई,

मैं खुद बीती बतलाता रे ।

इतना दिया मेरी माता,

॥ मेरी झोली छोटी पड़...॥



मान मिला सम्मान मिला,

गुणवान मुझे संतान मिली ।

धन धान मिला नित ध्यान मिला,

माँ से ही मुझे पहचान मिली ।

घरबार दिया मुझे माँ ने,

बेशुमार दिया मुझे माँ ने,

हर बार दिया मुझे माँ ने,

जब जब मैं माँगने जाता ।

मुझे इतना दिया मेरी माता,

॥ मेरी झोली छोटी पड़...॥



मेरा रोग कटा मेरा कष्ट मिटा,

हर संकट माँ ने दूर किया,

भूले से कभी जो गुरुर किया,

मेरे अभिमान को चूर किया ।

मेरे अंग संग हुई सहाई,

भटके को राह दिखाई ।

क्या लीला माँ ने रचाई,

मैं कुछ भी समझ ना पाता ।

इतना दिया मेरी माता,

॥ मेरी झोली छोटी पड़...॥



उपकार करे भव पार करे,

सपने सब के साकार करे ।

ना देर करे माँ मेहर करे,

भक्तो के सदा भंडार भरे ।

महिमा निराली माँ की,

दुनिया है सवाली माँ की ।

जो लगन लगा ले माँ की,

मुश्किल में नहीं घबराता रे ।

इतना दिया मेरी माता,

॥ मेरी झोली छोटी पड़...॥



कर कोई जतन ऐ चंचल मन,

तू होके मगन चल माँ के भवन।

पा जाये नयन पावन दर्शन,

हो जाये सफल फिर ये जीवन।

तू थाम ले माँ का दामन,

ना चिंता रहे ना उलझन।

दिन रात मनन कर सुमिरन,

चाकर माँ कहलाता।

इतना दिया मेरी माता,

॥ मेरी झोली छोटी पड़...॥



मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे,

इतना दिया मेरी माता ।

मेरी बिगड़ी माँ ने बनायीं,

सोयी तकदीर जगायी ।

ये बात ना सुनी सुनाई,

मैं खुद बीती बतलाता रे ।

इतना दिया मेरी माता,

॥ मेरी झोली छोटी पड़...॥

श्री विष्णु मत्स्य अवतार पौराणिक कथा (Shri Vishnu Matsyavatar Pauranik Katha)

मेरे मन के अंध तमस में: भजन (Mere Man Ke Andh Tamas Me Jyotirmayi Utaro)

हे माँ मुझको ऐसा घर दे: भजन (He Maa Mujhko Aisa Ghar De)

माँ तुलसी अष्टोत्तर-शतनाम-नामावली (Tulsi Ashtottara Shatnam Namavali)

ऐ मुरली वाले मेरे कन्हैया, बिना तुम्हारे.. (Ae Murliwale Mere Kanhaiya, Bina Tumhare Tadap Rahe Hain)

देवोत्थान / प्रबोधिनी एकादशी व्रत कथा (Devutthana Ekadashi Vrat Katha)

करवा चौथ व्रत कथा: पतिव्रता करवा धोबिन की कथा! (Karwa Chauth Vrat Katha 3)

श्री गौ अष्टोत्तर नामावलि - गौ माता के 108 नाम (Gau Mata Ke 108 Naam)

भजन: श्री राम जानकी बैठे हैं मेरे सीने में! (Shri Ram Janki Baithe Hain Mere Seene Me Bhajan)

मंगल को जन्मे, मंगल ही करते: भजन (Mangal Ko Janme Mangal Hi Karte)

भजन: कभी धूप कभी छाँव (Kabhi Dhoop Kabhi Chhaon)

श्री सत्यनारायण कथा - पंचम अध्याय (Shri Satyanarayan Katha Pancham Adhyay)