हमारे साथ श्री रघुनाथ तो... (Hamare Sath Shri Raghunath Too Kis Baat Ki Chinta)

हमारे साथ श्री रघुनाथ तो किस बात की चिंता।

शरण में रख दिया जब माथ तो किस बात की चिंता।

किया करते हो तुम दिन रात क्यों बिन बात की चिंता

किया करते हो तुम दिन रात क्यों बिन बात की चिंता।



तेरे स्वामी, तेरे स्वामी, तेरे स्वामी,

तेरे स्वामी को रहती है, तेरे हर बात की चिंता।

॥ हमारे साथ श्री रघुनाथ तो...॥



न खाने की, न पीने की, न मरने की, न जीने की।

न खाने की, न पीने की, न मरने की, न जीने की।

न खाने की, न पीने की, न मरने की, न जीने की।



रहे हर स्वास, रहे हर स्वास, रहे हर स्वास

रहे हर स्वास में भगवान के प्रिय नाम की चिंता।

॥ हमारे साथ श्री रघुनाथ तो...॥



विभीषण को अभय वर दे किया लंकेश पल भर में।

विभीषण को अभय वर दे किया लंकेश पल भर में।

विभीषण को अभय वर दे किया लंकेश पल भर में।



उन्ही का हाँ, उन्ही का हाँ, उन्ही का हाँ

उन्ही का हाँ कर रहे गुण गान तो किस बात की चिंता।

उन्ही का हाँ कर रहे गुण गान तो किस बात की चिंता।

॥ हमारे साथ श्री रघुनाथ तो...॥



हुई भक्त पर किरपा, बनाया दास प्रभु अपना।

हुई भक्त पर किरपा, बनाया दास प्रभु अपना।

हुई भक्त पर किरपा, बनाया दास प्रभु अपना।



उन्ही के हाथ, उन्ही के हाथ, उन्ही के हाथ,

उन्ही के हाथ में अब हाथ तो किस बात की चिंता।

उन्ही के हाथ में अब हाथ तो किस बात की चिंता।

॥ हमारे साथ श्री रघुनाथ तो...॥



हमारे साथ श्री रघुनाथ तो किस बात की चिंता।

शरण में रख दिया जब माथ तो किस बात की चिंता।

किया करते हो तुम दिन रात क्यों बिन बात की चिंता

किया करते हो तुम दिन रात क्यों बिन बात की चिंता।




Read Also

»
चार धाम
|
द्वादश ज्योतिर्लिंग!
|
सप्त मोक्ष पुरी!

»
सीता नवमी
|
राम नवमी
|
हनुमान जयंती

»
आरती: ॐ जय जगदीश हरे
|
आरती कीजै श्री रघुवर जी की
|
आरती कीजै रामचन्द्र जी

»
श्री राम स्तुति: श्री रामचन्द्र कृपालु भजुमन!
|
मेरे राम मेरे घर आएंगे

अजब हैरान हूं भगवन! तुम्हें कैसे रिझाऊं मैं। (Ajab Hairan Hoon Bhagawan Tumhen Kaise Rijhaon Main)

श्री गुरु अष्टकम (Shri Guru Ashtakam)

श्री खाटू श्याम जी आरती (Shri Khatu Shyam Ji Ki Aarti)

श्री महासरस्वती सहस्रनाम स्तोत्रम्! (Maha Sarasvati Sahastra Stotram)

शिव भजन: पार्वती तेरा भोला, जगत में.. (Parvati Tera Bhola Jagat Me Sabse Nirala Hai)

अहोई अष्टमी और राधाकुण्ड से जुड़ी कथा (Ahoi Ashtami And Radhakund Katha)

भजन: अयोध्या करती है आव्हान.. (Ayodhya Karti Hai Awhan)

लगन तुमसे लगा बैठे, जो होगा देखा जाएगा। (Lagan Tumse Laga Baithe Jo Hoga Dekha Jayega)

भजन: राम सिया राम, सिया राम जय जय राम! (Ram Siya Ram Siya Ram Jai Jai Ram)

विन्ध्येश्वरी आरती: सुन मेरी देवी पर्वतवासनी (Sun Meri Devi Parvat Vasani)

मैं बालक तू माता शेरां वालिए! (Main Balak Tu Mata Sherawaliye)

भगवान राम के राजतिलक में निमंत्रण से छूटे भगवान चित्रगुप्त (Ram Ke Rajtilak Me Nimantran Se Chhute Bhagwan Chitragupt)