हमारे साथ श्री रघुनाथ तो... (Hamare Sath Shri Raghunath Too Kis Baat Ki Chinta)

हमारे साथ श्री रघुनाथ तो किस बात की चिंता।

शरण में रख दिया जब माथ तो किस बात की चिंता।

किया करते हो तुम दिन रात क्यों बिन बात की चिंता

किया करते हो तुम दिन रात क्यों बिन बात की चिंता।



तेरे स्वामी, तेरे स्वामी, तेरे स्वामी,

तेरे स्वामी को रहती है, तेरे हर बात की चिंता।

॥ हमारे साथ श्री रघुनाथ तो...॥



न खाने की, न पीने की, न मरने की, न जीने की।

न खाने की, न पीने की, न मरने की, न जीने की।

न खाने की, न पीने की, न मरने की, न जीने की।



रहे हर स्वास, रहे हर स्वास, रहे हर स्वास

रहे हर स्वास में भगवान के प्रिय नाम की चिंता।

॥ हमारे साथ श्री रघुनाथ तो...॥



विभीषण को अभय वर दे किया लंकेश पल भर में।

विभीषण को अभय वर दे किया लंकेश पल भर में।

विभीषण को अभय वर दे किया लंकेश पल भर में।



उन्ही का हाँ, उन्ही का हाँ, उन्ही का हाँ

उन्ही का हाँ कर रहे गुण गान तो किस बात की चिंता।

उन्ही का हाँ कर रहे गुण गान तो किस बात की चिंता।

॥ हमारे साथ श्री रघुनाथ तो...॥



हुई भक्त पर किरपा, बनाया दास प्रभु अपना।

हुई भक्त पर किरपा, बनाया दास प्रभु अपना।

हुई भक्त पर किरपा, बनाया दास प्रभु अपना।



उन्ही के हाथ, उन्ही के हाथ, उन्ही के हाथ,

उन्ही के हाथ में अब हाथ तो किस बात की चिंता।

उन्ही के हाथ में अब हाथ तो किस बात की चिंता।

॥ हमारे साथ श्री रघुनाथ तो...॥



हमारे साथ श्री रघुनाथ तो किस बात की चिंता।

शरण में रख दिया जब माथ तो किस बात की चिंता।

किया करते हो तुम दिन रात क्यों बिन बात की चिंता

किया करते हो तुम दिन रात क्यों बिन बात की चिंता।




Read Also

»
चार धाम
|
द्वादश ज्योतिर्लिंग!
|
सप्त मोक्ष पुरी!

»
सीता नवमी
|
राम नवमी
|
हनुमान जयंती

»
आरती: ॐ जय जगदीश हरे
|
आरती कीजै श्री रघुवर जी की
|
आरती कीजै रामचन्द्र जी

»
श्री राम स्तुति: श्री रामचन्द्र कृपालु भजुमन!
|
मेरे राम मेरे घर आएंगे

अगर श्याम सुन्दर का सहारा ना होता (Agar Shyam Sundar Ka Sahara Na Hota)

भजन: गाइये गणपति जगवंदन (Gaiye Ganpati Jagvandan)

प्रभु हम पे कृपा करना, प्रभु हम पे दया करना: भजन (Prabhu Humpe Daya Karna)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 25 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 25)

मन लेके आया, माता रानी के भवन में: भजन (Bhajan: Man Leke Aaya Mata Rani Ke Bhawan Me)

हिम्मत ना हारिए, प्रभु ना बिसारिए: भजन (Himmat Na Hariye, Prabhu Na Bisraiye)

भए प्रगट कृपाला दीनदयाला: भजन (Bhaye Pragat Kripala Din Dayala)

भजन: दुनिया बनाने वाले महिमा तेरी निराली। (Bhajan: Duniya Banane Wale Mahima Teri Nirali)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 5 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 5)

श्री शीतलाष्टक स्तोत्र (Shri Sheetla Ashtakam)

श्याम के बिना तुम आधी: भजन (Shyam Ke Bina Tum Aadhi)

कहियो दर्शन दीन्हे हो, भीलनियों के राम: भजन (Kahiyo Darshan Dinhe Ho Bhilaniyo Ke Ram)