अनमोल तेरा जीवन, यूँ ही गँवा रहा है: भजन (Anmol Tera Jeevan Yuhi Ganwa Raha Hai)

अनमोल तेरा जीवन,

यूँ ही गँवा रहा है,

किस ओर तेरी मंजिल,

किस ओर जा रहा है,

अनमोल तेंरा जीवन,

यूँ ही गँवा रहा है ॥




सपनो की नींद में ही,


यह रात ढल न जाये,


पल भर का क्या भरोसा,


कही जान निकल ना जाये,


गिनती की है ये साँसे,


यूँ ही लुटा रहा है ।



किस ओर तेरी मंजिल,

किस ओर जा रहा है,

अनमोल तेंरा जीवन,

यूँ ही गँवा रहा है ॥




जायेगा जब यहाँ से,


कोई ना साथ देगा,


इस हाथ जो दिया है,


उस हाथ जा के लेगा,


कर्मो की है ये खेती,


फल आज पा रहा है ।



किस ओर तेरी मंजिल,

किस ओर जा रहा है,

अनमोल तेंरा जीवन,

यूँ ही गँवा रहा है ॥




ममता के बन्धनों ने,


क्यों आज तुझको घेरा,


सुख में सभी है साथी,


कोई नहीं है तेरा,


तेरा ही मोह तुझको,


कब से रुला रहा है ।



किस ओर तेरी मंजिल,

किस ओर जा रहा है,

अनमोल तेंरा जीवन,

यूँ ही गँवा रहा है ॥




जब तक है भेद मन में,


भगवान से जुदा है,


खोलो जो दिल का दर्पण,


इस घर में ही खुदा है,


सुख रूप हो के भी तू,


दुःख आज पा रहा है ।



किस ओर तेरी मंजिल,

किस ओर जा रहा है,

अनमोल तेंरा जीवन,

यूँ ही गँवा रहा है ॥



अनमोल तेरा जीवन,

यूँ ही गँवा रहा है,

किस ओर तेरी मंजिल,

किस ओर जा रहा है,

अनमोल तेंरा जीवन,

यूँ ही गँवा रहा है ॥

सोमवती अमावस्या व्रत कथा (Somvati Amavasya Vrat Katha)

भजन: श्री कृष्णा गोविन्द हरे मुरारी (Bhajan: Shri Krishna Govind Hare Murari)

श्री राधा: आरती श्री वृषभानुसुता की (Shri Radha Ji: Aarti Shri Vrashbhanusuta Ki)

तेरी मुरली की मैं हूँ गुलाम... (Teri Murli Ki Main Huun Gulaam Mere Albele Shyam)

बड़ी देर भई नंदलाला: भजन (Badi Der Bhai Nandlala)

सतगुरु मैं तेरी पतंग: गुरु भजन (Satguru Main Teri Patang)

प्रभु मेरे मन को बना दे शिवाला! (Prabhu Mere Mann Ko Banado Shivalay)

मधुराष्टकम्: अधरं मधुरं वदनं मधुरं - श्रीवल्लभाचार्य कृत (Madhurashtakam Adhram Madhuram Vadnam Madhuram)

दुर्गा है मेरी माँ, अम्बे है मेरी माँ: भजन (Durga Hai Meri Maa Ambe Hai Meri Maa)

छठ पूजा: मारबो रे सुगवा - छठ पूजा गीत (Marbo Re Sugwa Dhanukh Se Chhath Puja Song)

मिलता है सच्चा सुख केवल भगवान! (Milta Hai Sachha Sukh Keval Bhagwan Tere Charno Me)

तुम शरणाई आया ठाकुर: शब्द कीर्तन (Tum Sharnai Aaya Thakur)