भजन: छम छम नाचे देखो वीर हनुमाना! (Bhajan: Cham Cham Nache Dekho Veer Hanumana)

छम छम नाचे देखो वीर हनुमाना

छम छम नाचे देखो वीर हनुमाना

कहते लोग इसे राम का दिवाना

छम छम नाचे देखो वीर हनुमाना



पाँव में घूंघरु बांध के नाचे

राम जी का नाम इसे प्यारा लागे

राम ने भी देखो इसे खुब पहचाना

॥ छम छम नाचे देखो वीर हनुमाना...॥



जहाँ जहाँ कीर्तन होता श्रीराम का

लगता हैं पहरा वहाँ वीर हनुमान का

राम के चरण में हैं इनका ठिकाना

॥ छम छम नाचे देखो वीर हनुमाना...॥



नाच नाच देखो श्रीराम को रिझाये

बनवारी देखो नाचता ही जाये

भक्तों में भक्त बडा दुनियाँ ने माना

॥ छम छम नाचे देखो वीर हनुमाना...॥



छम छम नाचे देखो वीर हनुमाना

कहते लोग इसे राम का दिवाना

छम छम नाचे देखो वीर हनुमाना

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 4 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 4)

भजन: हरि जी! मेरी लागी लगन मत तोडना.. (Hari Ji Meri Lagi Lagan Mat Todna)

आरती: ॐ जय महावीर प्रभु (Om Jai Mahaveer Prabhu)

राम जपते रहो, काम करते रहो: भजन (Ram Japate Raho, Kam Karte Raho)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 22 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 22)

अजब हैरान हूं भगवन! तुम्हें कैसे रिझाऊं मैं। (Ajab Hairan Hoon Bhagawan Tumhen Kaise Rijhaon Main)

येषां न विद्या न तपो न दानं... (Yeshaan Na Vidya Na Tapo Na Danan)

ऋण मोचक मङ्गल स्तोत्रम् (Rin Mochan Mangal Stotram)

काक चेष्टा, बको ध्यानं: आदर्श विद्यार्थी के पांच लक्षण (Kaak Cheshta Vidyarthee Ke Panch Gun)

मैं तो बांके की बांकी बन गई (Main Toh Banke Ki Banki Ban Gayi)

विजया एकादशी व्रत कथा (Vijaya Ekadashi Vrat Katha)

श्री लक्ष्मी सुक्तम् - ॐ हिरण्यवर्णां हरिणींसुवर्णरजतस्रजाम् (Sri Lakshmi Suktam - Om Hiranya Varnam)