भगवान शिव शतनाम-नामावली स्तोत्रम्! (Shri Shiv Stotram Sat Namavali)

ॐ शिवाय नमः ॥

ॐ महेश्वराय नमः ॥

ॐ शंभवे नमः ॥

ॐ पिनाकिने नमः ॥

ॐ शशिशेखराय नमः ॥

ॐ वामदेवाय नमः ॥

ॐ विरूपाक्षाय नमः ॥

ॐ कपर्दिने नमः ॥

ॐ नीललोहिताय नमः ॥

ॐ शंकराय नमः ॥ १० ॥




ॐ शूलपाणये नमः ॥


ॐ खट्वांगिने नमः ॥


ॐ विष्णुवल्लभाय नमः ॥


ॐ शिपिविष्टाय नमः ॥


ॐ अंबिकानाथाय नमः ॥


ॐ श्रीकंठाय नमः ॥


ॐ भक्तवत्सलाय नमः ॥


ॐ भवाय नमः ॥


ॐ शर्वाय नमः ॥


ॐ त्रिलोकेशाय नमः
॥ २० ॥



ॐ शितिकंठाय नमः ॥

ॐ शिवाप्रियाय नमः ॥

ॐ उग्राय नमः ॥

ॐ कपालिने नमः ॥

ॐ कौमारये नमः ॥

ॐ अंधकासुर सूदनाय नमः ॥

ॐ गंगाधराय नमः ॥

ॐ ललाटाक्षाय नमः ॥

ॐ कालकालाय नमः ॥

ॐ कृपानिधये नमः ॥ ३० ॥




ॐ भीमाय नमः ॥


ॐ परशुहस्ताय नमः ॥


ॐ मृगपाणये नमः ॥


ॐ जटाधराय नमः ॥


ॐ क्तेलासवासिने नमः ॥


ॐ कवचिने नमः ॥


ॐ कठोराय नमः ॥


ॐ त्रिपुरांतकाय नमः ॥


ॐ वृषांकाय नमः ॥


ॐ वृषभारूढाय नमः
॥ ४० ॥



ॐ भस्मोद्धूलित विग्रहाय नमः ॥

ॐ सामप्रियाय नमः ॥

ॐ स्वरमयाय नमः ॥

ॐ त्रयीमूर्तये नमः ॥

ॐ अनीश्वराय नमः ॥

ॐ सर्वज्ञाय नमः ॥

ॐ परमात्मने नमः ॥

ॐ सोमसूर्याग्नि लोचनाय नमः ॥

ॐ हविषे नमः ॥

ॐ यज्ञमयाय नमः ॥ ५० ॥




ॐ सोमाय नमः ॥


ॐ पंचवक्त्राय नमः ॥


ॐ सदाशिवाय नमः ॥


ॐ विश्वेश्वराय नमः ॥


ॐ वीरभद्राय नमः ॥


ॐ गणनाथाय नमः ॥


ॐ प्रजापतये नमः ॥


ॐ हिरण्यरेतसे नमः ॥


ॐ दुर्धर्षाय नमः ॥


ॐ गिरीशाय नमः
॥ ६० ॥



ॐ गिरिशाय नमः ॥

ॐ अनघाय नमः ॥

ॐ भुजंग भूषणाय नमः ॥

ॐ भर्गाय नमः ॥

ॐ गिरिधन्वने नमः ॥

ॐ गिरिप्रियाय नमः ॥

ॐ कृत्तिवाससे नमः ॥

ॐ पुरारातये नमः ॥

ॐ भगवते नमः ॥

ॐ प्रमधाधिपाय नमः ॥ ७० ॥




ॐ मृत्युंजयाय नमः ॥


ॐ सूक्ष्मतनवे नमः ॥


ॐ जगद्व्यापिने नमः ॥


ॐ जगद्गुरवे नमः ॥


ॐ व्योमकेशाय नमः ॥


ॐ महासेन जनकाय नमः ॥


ॐ चारुविक्रमाय नमः ॥


ॐ रुद्राय नमः ॥


ॐ भूतपतये नमः ॥


ॐ स्थाणवे नमः
॥ ८० ॥



ॐ अहिर्भुथ्न्याय नमः ॥

ॐ दिगंबराय नमः ॥

ॐ अष्टमूर्तये नमः ॥

ॐ अनेकात्मने नमः ॥

ॐ स्वात्त्विकाय नमः ॥

ॐ शुद्धविग्रहाय नमः ॥

ॐ शाश्वताय नमः ॥

ॐ खंडपरशवे नमः ॥

ॐ अजाय नमः ॥

ॐ पाशविमोचकाय नमः ॥ ९० ॥




ॐ मृडाय नमः ॥


ॐ पशुपतये नमः ॥


ॐ देवाय नमः ॥


ॐ महादेवाय नमः ॥


ॐ अव्ययाय नमः ॥


ॐ हरये नमः ॥


ॐ पूषदंतभिदे नमः ॥


ॐ अव्यग्राय नमः ॥


ॐ दक्षाध्वरहराय नमः ॥


ॐ हराय नमः
॥ १०० ॥



ॐ भगनेत्रभिदे नमः ॥

ॐ अव्यक्ताय नमः ॥

ॐ सहस्राक्षाय नमः ॥

ॐ सहस्रपादे नमः ॥

ॐ अपपर्गप्रदाय नमः ॥

ॐ अनंताय नमः ॥

ॐ तारकाय नमः ॥

ॐ परमेश्वराय नमः ॥ १०८ ॥

स्वांसां दी माला नाल सिमरन मैं तेरा नाम: शब्द कीर्तन (Swasa Di Mala Nal Simaran Main Tera Nam)

जिनका मैया जी के चरणों से संबंध हो गया (Jinka Maiya Ji Ke Charno Se Sabandh Hogaya)

राधाकृष्ण प्राण मोर युगल-किशोर ( RadhaKrishn Prana Mora Yugal Kishor)

म्हारा खाटू वाला श्याम: भजन (Mhara Khatu Wala Shyam, Mhara Neele Shyam)

बधाई भजन: बजे कुण्डलपर में बधाई, के नगरी में वीर जन्मे (Badhai Bhajan Baje Kundalpur Me Badayi Nagri Me Veer Janme)

शिव आरती - ॐ जय गंगाधर (Shiv Aarti - Om Jai Gangadhar)

कर प्रणाम तेरे चरणों में: प्रार्थना (Kar Pranam Tere Charno Me: Morning Prarthana)

दुर्गा है मेरी माँ, अम्बे है मेरी माँ: भजन (Durga Hai Meri Maa Ambe Hai Meri Maa)

इक दिन वो भोले भंडारी बन करके ब्रज की नारी: भजन (Ik Din Vo Bhole Bhandari Banke Braj Ki Nari)

मुझे कौन जानता था तेरी बंदगी से पहले: भजन (Mujhe Kaun Poochhta Tha Teri Bandagi Se Pahle)

भोजन मन्त्र: ॐ सह नाववतु। (Bhojan Mantra Om Sah Naavavatu)

पुत्रदा / पवित्रा एकादशी व्रत कथा! (Putrada / Pavitra Ekadashi Vrat Katha)