भजन करो मित्र मिला आश्रम नरतन का: भजन (Bhajan Karo Mitra Mila Ashram Nartan Ka)

भजन करो मित्र मिला,

आश्रम नरतन का ।

श्वास की सुमिरिनी है,

मन को बना मनका ॥

भजन करो मित्र मिला,

आश्रम नरतन का ।

श्वास की सुमिरिनी है,

मन को बना मनका ॥



पंच महले बंगले का तू है निवासी

पंच महले बंगले का तू है निवासी

पंच ज्ञान पंच कर्म इंद्रियां हैं दासी ॥

काया है कीमती मगर है बिनशी

करले राम बंदगी है जिंदगी जरा सी ॥

बार बार मिलता नहीं,

अवसर भजन का ।

श्वास की सुमिरिनी है,

मन को बना मनका ॥



भजन करो मित्र मिला,

आश्रम नरतन का ।

श्वास की सुमिरिनी है,

मन को बना मनका ॥



रामरूप जगत जान करले आराधना

रामरूप जगत जान करले आराधना

प्रभू दीखें सब में तो होवे अपराध ना

वासना से मुक्ति मिले ऐसी कर साधना

दुःख रहे दूर यदि सुख की हो साधना ॥

सार है यही यार सद्गुरु वचन का ।

श्वास की सुमिरिनी है,

मन को बना मनका ॥



भजन करो मित्र मिला,

आश्रम नरतन का ।

श्वास की सुमिरिनी है,

मन को बना मनका ॥



खुद को देह मानकर, खुद का होश खोया

कर्ता बन तूने ही कर्म बीज बोया

सपने को सच समझा मोह नींद सोया

सुख में प्रसन्न हुआ दुःख देख रोया ॥

यही एक कारण है जीवन मरण का ।

श्वास की सुमिरिनी है,

मन को बना मनका ॥



भजन करो मित्र मिला,

आश्रम नरतन का ।

श्वास की सुमिरिनी है,

मन को बना मनका ॥



राजेश्वर गुरु ज्ञान गंगा नहा ले

राजेश्वर गुरु ज्ञान गंगा नहा ले

आत्मबोध पाकर के फल जीवन का पा ले ॥

रामजी से प्रीत कर राम गीत गा ले

राम नाम सुमिरन कर जिंदगी बना ले ॥

होगा अनुग्रह प्रभु असरन शरन का ।

श्वास की सुमिरिनी है,

मन को बना मनका ॥



भजन करो मित्र मिला,

आश्रम नरतन का ।

श्वास की सुमिरिनी है,

मन को बना मनका ॥

- स्वामी श्री राजेश्वरानंद जी महाराज

करलो करलो चारो धाम, मिलेंगे कृष्ण, मिलेंगे राम (Karlo Karlo Charo Dham)

चौसठ जोगणी रे भवानी: राजस्थानी भजन (Chausath Jogani Re Bhawani, Dewaliye Ramajay)

तेरे पूजन को भगवान, बना मन मंदिर आलीशान: भजन (Tere Pujan Ko Bhagwan)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 29 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 29)

कहियो दर्शन दीन्हे हो, भीलनियों के राम: भजन (Kahiyo Darshan Dinhe Ho Bhilaniyo Ke Ram)

विसर नाही दातार अपना नाम देहो: शब्द कीर्तन (Visar Nahi Datar Apna Naam Deho)

दुर्गा है मेरी माँ, अम्बे है मेरी माँ: भजन (Durga Hai Meri Maa Ambe Hai Meri Maa)

महिषासुरमर्दिनि स्तोत्रम् - अयि गिरिनन्दिनि (Mahishasura Mardini Stotram - Aigiri Nandini)

तत्त्वमसि महावाक्य (Tatwamasi)

हरि कर दीपक, बजावें संख सुरपति (Hari Kar Deepak Bajave Shankh Surpati)

वरुथिनी एकादशी व्रत कथा (Varuthini Ekadashi Vrat Katha)

उत्पन्ना एकादशी व्रत कथा (Utpanna Ekadashi Vrat Katha)