भजन करो मित्र मिला आश्रम नरतन का: भजन (Bhajan Karo Mitra Mila Ashram Nartan Ka)

भजन करो मित्र मिला,

आश्रम नरतन का ।

श्वास की सुमिरिनी है,

मन को बना मनका ॥

भजन करो मित्र मिला,

आश्रम नरतन का ।

श्वास की सुमिरिनी है,

मन को बना मनका ॥



पंच महले बंगले का तू है निवासी

पंच महले बंगले का तू है निवासी

पंच ज्ञान पंच कर्म इंद्रियां हैं दासी ॥

काया है कीमती मगर है बिनशी

करले राम बंदगी है जिंदगी जरा सी ॥

बार बार मिलता नहीं,

अवसर भजन का ।

श्वास की सुमिरिनी है,

मन को बना मनका ॥



भजन करो मित्र मिला,

आश्रम नरतन का ।

श्वास की सुमिरिनी है,

मन को बना मनका ॥



रामरूप जगत जान करले आराधना

रामरूप जगत जान करले आराधना

प्रभू दीखें सब में तो होवे अपराध ना

वासना से मुक्ति मिले ऐसी कर साधना

दुःख रहे दूर यदि सुख की हो साधना ॥

सार है यही यार सद्गुरु वचन का ।

श्वास की सुमिरिनी है,

मन को बना मनका ॥



भजन करो मित्र मिला,

आश्रम नरतन का ।

श्वास की सुमिरिनी है,

मन को बना मनका ॥



खुद को देह मानकर, खुद का होश खोया

कर्ता बन तूने ही कर्म बीज बोया

सपने को सच समझा मोह नींद सोया

सुख में प्रसन्न हुआ दुःख देख रोया ॥

यही एक कारण है जीवन मरण का ।

श्वास की सुमिरिनी है,

मन को बना मनका ॥



भजन करो मित्र मिला,

आश्रम नरतन का ।

श्वास की सुमिरिनी है,

मन को बना मनका ॥



राजेश्वर गुरु ज्ञान गंगा नहा ले

राजेश्वर गुरु ज्ञान गंगा नहा ले

आत्मबोध पाकर के फल जीवन का पा ले ॥

रामजी से प्रीत कर राम गीत गा ले

राम नाम सुमिरन कर जिंदगी बना ले ॥

होगा अनुग्रह प्रभु असरन शरन का ।

श्वास की सुमिरिनी है,

मन को बना मनका ॥



भजन करो मित्र मिला,

आश्रम नरतन का ।

श्वास की सुमिरिनी है,

मन को बना मनका ॥

- स्वामी श्री राजेश्वरानंद जी महाराज

भजन: मैं नहीं, मेरा नहीं, यह तन.. (Main Nahi Mera Nahi Ye Tan)

भभूती रमाये बाबा भोले नाथ आए! (Bhabhuti Ramaye Baba Bholenath Aaye)

करवा चौथ व्रत कथा: साहूकार के सात लड़के, एक लड़की की कहानी (Karwa Chauth Vrat Katha)

पद्मिनी एकादशी व्रत कथा (Padmini Ekadashi Vrat Katha)

आज बिरज में होरी रे रसिया: होली भजन (Aaj Biraj Mein Hori Re Rasiya)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 19 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 19)

कन्हैया कन्हैया पुकारा करेंगे... (Kanhaiya Kanhaiya Pukara Karenge Lataon Me Brij Ki Gujara Karenge)

भजन: थारी जय जो पवन कुमार! (Bhajan: Thari Jai Ho Pavan Kumar Balihari Jaun Balaji)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 15 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 15)

तू मेरा राखा सबनी थाई: गुरुवाणी शब्द कीर्तन (Tu Mera Rakha Sabni Thai)

श्रीहनुमत् पञ्चरत्नम् (Shri Hanumat Pancharatnam)

श्यामा तेरे चरणों की, गर धूल जो मिल जाए: भजन (Shyama Tere Charno Ki, Gar Dhool Jo Mil Jaye)