मेरे बांके बिहारी लाल, तू इतना ना करिओ श्रृंगार (Mere Banke Bihari Lal Tu Itna Na Nario Shringar)

मेरे बांके बिहारी लाल,

तू इतना ना करिओ श्रृंगार,

नजर तोहे लग जाएगी।



तेरी सुरतिया पे मन मोरा अटका।

प्यारा लागे तेरा पीला पटका।

तेरी टेढ़ी मेढ़ी चाल, तू इतना ना करिओ श्रृंगार,

नजर तोहे लग जाएगी॥

॥ मेरे बांके बिहारी लाल...॥



तेरी मुरलिया पे मन मेरा अटका।

प्यारा लागे तेरा नीला पटका।

तेरे गुंगार वाले बाल, तू इतना ना करिओ श्रृंगार,

नजर तोहे लग जाएगी॥

॥ मेरे बांके बिहारी लाल...॥



तेरी कमरिया पे मन मोरा अटका।

प्यारा लागे तेरा काला पटका।

तेरे गल में वैजयंती माल, तू इतना ना करिओ श्रृंगार,

नजर तोहे लग जाएगी॥

॥ मेरे बांके बिहारी लाल...॥



मेरे बांके बिहारी लाल, तू इतना ना करिओ श्रृंगार,

नजर तोहे लग जाएगी।

भजन: मेरी विनती यही है! राधा रानी (Meri Binti Yahi Hai Radha Rani)

सकट चौथ पौराणिक व्रत कथा - श्री महादेवजी पार्वती (Sakat Chauth Pauranik Vrat Katha - Shri Mahadev Parvati)

नगरी हो अयोध्या सी, रघुकुल सा घराना हो (Nagri Ho Ayodhya Si, Raghukul Sa Gharana Ho)

बधाई भजन: लल्ला की सुन के मै आयी यशोदा मैया देदो! (Lalla Ki Sun Ke Mai Aayi Yashoda Maiya Dedo Badhai)

सर्व भयानक रोग नाशक मंत्र (Sarv Bhayanak Rog Nashak Mantra)

भए प्रगट कृपाला दीनदयाला: भजन (Bhaye Pragat Kripala Din Dayala)

जय जय शनि देव महाराज: भजन (Aarti Jai Jai Shanidev Maharaj)

भजन: अयोध्या करती है आव्हान.. (Ayodhya Karti Hai Awhan)

श्री सूर्य देव - ऊँ जय कश्यप नन्दन। (Shri Surya Dev Jai Kashyapa Nandana)

हरी सिर धरे मुकुट खेले होरी: होली भजन (Hari Sir Dhare Mukut Khele Hori)

राम जपते रहो, काम करते रहो: भजन (Ram Japate Raho, Kam Karte Raho)

कई जन्मों से बुला रही हूँ: भजन (Kai Janmo Se Bula Rahi Hun)