शिव आरती - ॐ जय शिव ओंकारा (Shiv Aarti - Om Jai Shiv Omkara)

भगवान शिव जिन्हें शंकर, भोलेनाथ, महादेव के संबोधन से भी पुकारा जाता है। इनकी स्तुति मुख्यता साप्ताहिक दिन
सोमवार, मासिक त्रियोदशी तथा प्रमुख दो शिवरात्रियों
को की जाती है, शिवजी की आरती इन्हीं दिन और पर्व को विशेष रूप में की जाती है।



ॐ जय शिव ओंकारा,

स्वामी जय शिव ओंकारा।

ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव,

अर्द्धांगी धारा ॥

ॐ जय शिव ओंकारा...॥




एकानन चतुरानन


पंचानन राजे ।


हंसासन गरूड़ासन


वृषवाहन साजे ॥

ॐ जय शिव ओंकारा...॥



दो भुज चार चतुर्भुज

दसभुज अति सोहे ।

त्रिगुण रूप निरखते

त्रिभुवन जन मोहे ॥

ॐ जय शिव ओंकारा...॥




अक्षमाला वनमाला,


मुण्डमाला धारी ।


चंदन मृगमद सोहै,


भाले शशिधारी ॥

ॐ जय शिव ओंकारा...॥



श्वेताम्बर पीताम्बर

बाघम्बर अंगे।

सनकादिक गरुणादिक

भूतादिक संगे ॥

ॐ जय शिव ओंकारा...॥




कर के मध्य कमंडल


चक्र त्रिशूलधारी ।


सुखकारी दुखहारी


जगपालन कारी ॥

ॐ जय शिव ओंकारा...॥



ब्रह्मा विष्णु सदाशिव

जानत अविवेका ।

प्रणवाक्षर में शोभित

ये तीनों एका ॥

ॐ जय शिव ओंकारा...॥




त्रिगुणस्वामी जी की आरति


जो कोइ नर गावे ।


कहत शिवानंद स्वामी


सुख संपति पावे ॥

ॐ जय शिव ओंकारा...॥



----- Addition ----

लक्ष्मी व सावित्री

पार्वती संगा ।

पार्वती अर्द्धांगी,

शिवलहरी गंगा ॥

ॐ जय शिव ओंकारा...॥




पर्वत सोहैं पार्वती,


शंकर कैलासा ।


भांग धतूर का भोजन,


भस्मी में वासा ॥

ॐ जय शिव ओंकारा...॥



जटा में गंग बहत है,

गल मुण्डन माला ।

शेष नाग लिपटावत,

ओढ़त मृगछाला ॥

जय शिव ओंकारा...॥




काशी में विराजे विश्वनाथ,


नंदी ब्रह्मचारी ।


नित उठ दर्शन पावत,


महिमा अति भारी ॥

ॐ जय शिव ओंकारा...॥



ॐ जय शिव ओंकारा,

स्वामी जय शिव ओंकारा।

ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव,

अर्द्धांगी धारा ॥

श्री शाकुम्भरी देवी जी की आरती (Shakumbhari Devi Ki Aarti)

छठ पूजा: पहिले पहिल, छठी मईया व्रत तोहार। (Chhath Puja: Pahile Pahil Chhathi Maiya)

Ashadha Sankashti Ganesh Chaturthi Vrat Katha (Ashadha Sankashti Ganesh Chaturthi Vrat Katha)

भजन: मेरो कान्हा गुलाब को फूल (Mero Kanha Gulab Ko Phool)

भजन: खाटू का राजा मेहर करो (Khatu Ka Raja Mehar Karo)

अहोई अष्टमी और राधाकुण्ड से जुड़ी कथा (Ahoi Ashtami And Radhakund Katha)

आरती: श्री गंगा मैया जी (Shri Ganga Maiya Ji)

हर हाल में खुश रहना: भजन (Har Haal Me Khush Rehna)

श्रावण संकष्टी गणेश चतुर्थी व्रत कथा (Shravan Sankashti Ganesh Chaturthi Vrat Katha)

भजन: हे करुणा मयी राधे, मुझे बस तेरा सहारा है! (Hey Karuna Mayi Radhe Mujhe Bas Tera Sahara Hai)

हाथी का शीश ही क्यों श्रीगणेश के लगा? (Hathi Ka Sheesh Hi Kiyon Shri Ganesh Ke Laga?)

प्रेरक कथा: श्री कृष्ण मोर से, तेरा पंख सदैव मेरे शीश पर होगा! (Prerak Katha Shri Krishn Mor Se Tera Aankh Sadaiv Mere Shish)