रामा रामा रटते रटते, बीती रे उमरिया: भजन (Rama Rama Ratate Ratate)

श्री राम नवमी, विजय दशमी, सुंदरकांड, रामचरितमानस कथा और अखंड रामायण के पाठ में प्रमुखता से गाये जाने वाला भजन।



रामा रामा रटते रटते,

बीती रे उमरिया ।

रघुकुल नंदन कब आओगे,

भिलनी की डगरिया ॥



मैं शबरी भिलनी की जाई,

भजन भाव ना जानु रे ।

राम तेरे दर्शन के हित,

वन में जीवन पालूं रे ।

चरणकमल से निर्मल करदो,

दासी की झोपड़िया ॥

॥ रामा रामा रटते रटते..॥



रोज सवेरे वन में जाकर,

फल चुन चुन कर लाऊंगी ।

अपने प्रभु के सन्मुख रख के,

प्रेम से भोग लगाऊँगी ।

मीठे मीठे बेरों की मैं,

भर लाई छबरिया ॥

॥ रामा रामा रटते रटते..॥



श्याम सलोनी मोहिनी मूरत,

नैयनो बीच बसाऊंगी ।

सुबह शाम नित उठकर मै तो,

तेरा ध्यान लगाऊँगी ।

[Extra/Optional]

पद पंकज की रज धर मस्तक,

जीवन सफल बनाउंगी ।

अब क्या प्रभु जी भूल गए हो,

दासी की डगरिया ॥

॥ रामा रामा रटते रटते..॥



नाथ तेरे दर्शन की प्यासी,

मैं अबला इक नारी हूँ ।

दर्शन बिन दोऊ नैना तरसें,

सुनलो बहुत दुखारी हूँ ।

हरी रूप में दर्शन देदो,

डालो एक नजरिया ॥

॥ रामा रामा रटते रटते..॥



रामा रामा रटते रटते,

बीती रे उमरिया ।

रघुकुल नंदन कब आओगे,

भिलनी की डगरिया ॥

॥दारिद्र्य दहन शिवस्तोत्रं॥ (Daridraya Dahana Shiv Stotram)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 9 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 9)

मुझे कौन जानता था तेरी बंदगी से पहले: भजन (Mujhe Kaun Poochhta Tha Teri Bandagi Se Pahle)

भजन: बांके बिहारी कृष्ण मुरारी (Banke Bihari Krishan Murari)

प्रभु! स्वीकारो मेरे परनाम (Prabhu Sweekaro Mere Paranam)

गुरु भजन: दर्शन देता जाइजो जी.. (Darshan Deta Jaijo Ji Satguru Milata Jaiyo Ji)

श्री हनुमान अष्टोत्तर-शतनाम-नामावली (Shri Hanuman Ashtottara-Shatnam Namavali)

प्रभु को अगर भूलोगे बन्दे, बाद बहुत पछताओगे (Prabhu Ko Agar Bhuloge Bande Need Kahan Se Laoge)

श्री रुद्राष्टकम् (Shri Rudrashtakam - Goswami Tulasidas Krat)

मुरली बजा के मोहना! (Murli Bajake Mohana Kyon Karliya Kinara)

भजन: भारत के लिए भगवन का एक वरदान है गंगा! (Bharat Ke Liye Bhagwan Ka Ek Vardan Hai Maa Ganga)

जय रघुनन्दन, जय सिया राम: भजन (Jai Raghunandan Jai Siya Ram Bhajan)