रामा रामा रटते रटते, बीती रे उमरिया: भजन (Rama Rama Ratate Ratate)

श्री राम नवमी, विजय दशमी, सुंदरकांड, रामचरितमानस कथा और अखंड रामायण के पाठ में प्रमुखता से गाये जाने वाला भजन।



रामा रामा रटते रटते,

बीती रे उमरिया ।

रघुकुल नंदन कब आओगे,

भिलनी की डगरिया ॥



मैं शबरी भिलनी की जाई,

भजन भाव ना जानु रे ।

राम तेरे दर्शन के हित,

वन में जीवन पालूं रे ।

चरणकमल से निर्मल करदो,

दासी की झोपड़िया ॥

॥ रामा रामा रटते रटते..॥



रोज सवेरे वन में जाकर,

फल चुन चुन कर लाऊंगी ।

अपने प्रभु के सन्मुख रख के,

प्रेम से भोग लगाऊँगी ।

मीठे मीठे बेरों की मैं,

भर लाई छबरिया ॥

॥ रामा रामा रटते रटते..॥



श्याम सलोनी मोहिनी मूरत,

नैयनो बीच बसाऊंगी ।

सुबह शाम नित उठकर मै तो,

तेरा ध्यान लगाऊँगी ।

[Extra/Optional]

पद पंकज की रज धर मस्तक,

जीवन सफल बनाउंगी ।

अब क्या प्रभु जी भूल गए हो,

दासी की डगरिया ॥

॥ रामा रामा रटते रटते..॥



नाथ तेरे दर्शन की प्यासी,

मैं अबला इक नारी हूँ ।

दर्शन बिन दोऊ नैना तरसें,

सुनलो बहुत दुखारी हूँ ।

हरी रूप में दर्शन देदो,

डालो एक नजरिया ॥

॥ रामा रामा रटते रटते..॥



रामा रामा रटते रटते,

बीती रे उमरिया ।

रघुकुल नंदन कब आओगे,

भिलनी की डगरिया ॥

आरती सरस्वती जी: ओइम् जय वीणे वाली (Saraswati Om Jai Veene Wali)

भजन: लेके गौरा जी को साथ भोले-भाले भोले नाथ! (Leke Gaura Ji Ko Sath Bhole Bhale Bhole Nath)

आदित्य-हृदय स्तोत्र (Aditya Hridaya Stotra)

हो हो बालाजी मेरा संकट काटो ने - भजन (Ho Ho Balaji Mera Sankat Kato Ne)

ऐसे मेरे मन में विराजिये: भजन (Aaise Mere Maan Main Virajiye)

आनंद ही आनंद बरस रहा: भजन (Aanand Hi Aanand Baras Raha)

होली भजन: फाग खेलन बरसाने आये हैं, नटवर नंद किशोर (Holi Bhajan: Faag Khelan Barasane Aaye Hain Natwar Nand Kishore)

करवा चौथ व्रत कथा: साहूकार के सात लड़के, एक लड़की की कहानी (Karwa Chauth Vrat Katha)

आरती: श्री पार्वती माँ (Shri Parvati Maa)

श्री चित्रगुप्त जी की आरती - श्री विरंचि कुलभूषण (Shri Chitragupt Aarti - Shri Viranchi Kulbhusan)

भजन: ना जाने कौन से गुण पर, दयानिधि रीझ जाते हैं! (Na Jane Kaun Se Gun Par Dayanidhi Reejh Jate Hain)

भजन: जो करते रहोगे भजन धीरे धीरे (Jo Karte Rahoge Bhajan Dhire Dhire)