राम तुम बड़े दयालु हो: भजन (Ram Tum Bade Dayalu Ho)

राम तुम बड़े दयालु हो,

नाथ तुम बड़े दयालु हो,

हरी जी तुम बड़े दयालु हो ॥




और ना कोई हमारा है,


मुझे इक तेरा सहारा है,


नईया डोल रही मेरी,


हरी जी तुम करो ना अब देरी ।



राम तुम बड़ें दयालु हो,

नाथ तुम बड़े दयालु हो,

हरी जी तुम बड़े दयालु हो ॥




तेरा यश गाया वेदों ने,


पार नहीं पाया वेदों ने,


नेती नेती गाया वेदों ने ।



राम तुम बड़ें दयालु हो,

नाथ तुम बड़े दयालु हो,

हरी जी तुम बड़े दयालु हो ॥




भले हैं बुरे हैं तेरे हैं,


तेरी माया के घेरे हैं,


फिर भी हम बालक तेरे हैं ।



राम तुम बड़ें दयालु हो,

नाथ तुम बड़े दयालु हो,

हरी जी तुम बड़े दयालु हो ॥




सहारा भक्तों के हो आप,


मिटाते हो सब के संताप,


करें जो भक्ति भाव से जाप ।



राम तुम बड़ें दयालु हो,

नाथ तुम बड़े दयालु हो,

हरी जी तुम बड़े दयालु हो ॥




तुम्हारा नाम मिले भगवन,


सुबह और शाम मिले भगवन,


भक्ति का दान मिले भगवन ।



राम तुम बड़ें दयालु हो,

नाथ तुम बड़े दयालु हो,

हरी जी तुम बड़े दयालु हो ॥



राम तुम बड़े दयालु हो,

नाथ तुम बड़े दयालु हो,

हरी जी तुम बड़े दयालु हो ॥



श्री राम, जय राम, जय जय राम ।

श्री राम, जय राम, जय जय राम ।

श्री राम, जय राम, जय जय राम ।

श्री राम, जय राम, जय जय राम ।

भजन: बाल गोपाला, प्यारे मुरारी मोरे नन्द लाला! (Bhajan: Baal Gopala Pyare Murari More Nandlala)

कई जन्मों से बुला रही हूँ: भजन (Kai Janmo Se Bula Rahi Hun)

भजन: बाबा ये नैया कैसे डगमग डोली जाये (Baba Ye Naiya Kaise Dagmag Doli Jaye)

श्री विश्वकर्मा आरती- जय श्री विश्वकर्मा प्रभु (Shri Vishwakarma Ji Ki Aarti)

वीर हनुमाना अति बलवाना: भजन (Veer Hanumana Ati Balwana)

दे दो अपनी पुजारन को वरदान माँ: भजन (Dedo Apni Pujarin Ko Vardan Maa)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 19 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 19)

सतगुरु मैं तेरी पतंग: गुरु भजन (Satguru Main Teri Patang)

येषां न विद्या न तपो न दानं... (Yeshaan Na Vidya Na Tapo Na Danan)

श्री दशावतार स्तोत्र: प्रलय पयोधि-जले (Dashavtar Stotram: Pralay Payodhi Jale)

वो कौन है जिसने हम को दी पहचान है (Wo Kon Hai Jisne Humko Di Pahachan Hai)

हरतालिका तीज व्रत कथा (Hartalika Teej Vrat Katha)