राम ही पार लगावेंगे: भजन (Ram Hi Paar Lagavenge)

अजी मैं तो राम ही राम भजूँ री मेरे राम

राम ही पार लगावेंगे

जल थल गगन मण्डल में राम

राम ही पार लगावेंगे



तन मोरा राम, मन मोरा राम

तन मोरा राम, मन मोरा राम

मोरा कण-कण हो ऽ ऽ राम ही राम

राम ही पार लगावेंगे



बाहर राम, भीतर राम

बाहर राम, भीतर राम

मोरा रोम-रोम मोरा राम ही राम

राम ही पार लगावेंगे



अजी मैं तो राम ही राम भजूँ री मेरे राम

राम ही पार लगावेंगे



जल थल गगन मण्डल में राम

राम ही पार लगावेंगे

मुकुन्द माधव गोविन्द बोल - भजन (Mukund Madhav Govind Bol Bhajan)

राम तुम बड़े दयालु हो: भजन (Ram Tum Bade Dayalu Ho)

श्री राम रामेति रामेति रमे रामे मनोरमे (Shri Ram Raameti Raameti, Rame Raame Manorame)

भजन: बजरंग के आते आते कही भोर हो न जाये रे... (Bajrang Ke Aate 2 Kahin Bhor Ho Na Jaye Re)

कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे! (Kabhi Fursat Ho To Jagdambe)

भजन: जय हो शिव भोला भंडारी! (Jai Ho Shiv Bhola Bhandari Lela Aprampar Tumhari Bhajan)

प्रेरक कथा: श्री कृष्ण मोर से, तेरा पंख सदैव मेरे शीश पर होगा! (Prerak Katha Shri Krishn Mor Se Tera Aankh Sadaiv Mere Shish)

सखी री बांके बिहारी से हमारी लड़ गयी अंखियाँ (Sakhi Ri Bank Bihaari Se Hamari Ladgayi Akhiyan)

राम ना मिलेगे हनुमान के बिना: भजन (Bhajan: Ram Na Milege Hanuman Ke Bina)

जानकी स्तुति - भई प्रगट कुमारी (Janaki Stuti - Bhai Pragat Kumari)

ॐ जय कलाधारी हरे - बाबा बालक नाथ आरती (Shri Baba Balaknath Aarti)

मुझे अपनी शरण में ले लो राम: भजन (Mujhe Apni Sharan Me Lelo Ram)