तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार: भजन (Tera Ramji Karenge Bera Paar)

राम नाम सोहि जानिये,

जो रमता सकल जहान

घट घट में जो रम रहा,

उसको राम पहचान



तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार,

उदासी मन काहे को करे ।

तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार,

उदास मन काहे को करे ।

काहे को करे रे, काहे को करे,

काहे को करे, काहे को करे..



तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार,

उदासी मन काहे को करे रे ।

तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार,

उदासी मन काहे को करे ।

काहे को करे रे, काहे को करे,

काहे को करे, काहे को करे..



नैया तेरी राम हवाले,

लहर लहर हरि आप सँभाले ।

नैया तेरी राम हवाले,

लहर लहर हरि आप संभालें ।

हरि आप ही उठावे तेरा भार,

उदास मन काहे को करे ॥

॥ तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार...॥



काबू में मँझधार उसी के,

हाथों में पतवार उसी के ।

काबू में मँझधार उसी के,

हाथों में पतवार उसी के ।

तेरी हार भी नहीं है तेरी हार,

उदासी मन काहे को करे ॥

॥ तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार...॥



सहज किनारा मिल जायेगा,

परम सहारा मिल जायेगा ।

सहज किनारा मिल जायेगा,

परम सहारा मिल जायेगा ।

डोरी सौंप के तो देख एक बार,

उदास मन काहे को करे ॥

॥ तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार...॥



तू निर्दोष तुझे क्या डर है,

पग पग पर साथी ईश्वर है ।

तू निर्दोष तुझे क्या डर है,

पग पग पर साथी ईश्वर है ।

जरा भावना से कीजिये पुकार,

उदास मन काहे को करे ॥

॥ तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार...॥



तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार,

उदासी मन काहे को करे ।

तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार,

उदास मन काहे को करे ।

काहे को करे रे, काहे को करे,

काहे को करे, काहे को करे..



तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार,

उदासी मन काहे को करे रे ।

तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार,

उदासी मन काहे को करे ।

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 30 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 30)

तेरी मुरली की मैं हूँ गुलाम... (Teri Murli Ki Main Huun Gulaam Mere Albele Shyam)

श्री लक्ष्मी सुक्तम् - ॐ हिरण्यवर्णां हरिणींसुवर्णरजतस्रजाम् (Sri Lakshmi Suktam - Om Hiranya Varnam)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 8 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 8)

मिलता है सच्चा सुख केवल भगवान! (Milta Hai Sachha Sukh Keval Bhagwan Tere Charno Me)

मंगल को जन्मे, मंगल ही करते: भजन (Mangal Ko Janme Mangal Hi Karte)

तेरे द्वार खड़ा भगवान, भक्त भर..: भजन (Tere Dwaar Khada Bhagawan Bhagat Bhar De Re Jholi)

शंख पूजन मन्त्र (Shankh Poojan Mantra)

इस योग्य हम कहाँ हैं, गुरुवर तुम्हें रिझायें: भजन (Is Yogya Ham Kahan Hain, Guruwar Tumhen Rijhayen)

दैनिक हवन-यज्ञ विधि! (Dainik Havan Yagy Vidhi)

भजन: घर में पधारो गजानन जी! (Ghar Me Padharo Gajanan Ji)

श्री शनैश्चर सहस्रनाम वली (Shani Sahastra Namavali)