मेरे राम मेरे घर आएंगे, आएंगे प्रभु आएंगे: भजन (Mere Ram Mere Ghar Ayenge Ayenge Prabhu Ayenge)

श्री राम नवमी, विजय दशमी, सुंदरकांड, रामचरितमानस कथा और अखंड रामायण के पाठ में प्रमुखता से गाये जाने वाला भजन।



मेरे राम मेरे घर आएंगे,

आएंगे प्रभु आएंगे

प्रभु के दर्शन की आस है,

और भीलनी को विशवास है

मेरे राम मेरे घर आएंगे...



अंगना रस्ता रोज बुहार रही,

खड़ी खड़ी वो राह निहार रही

मन में लगन, भीलनी मगन,

भीलनी को भारी चाव है,

और मन में प्रेम का भाव है

मेरे राम मेरे घर आएंगे...



ना जानू सेवा पूजा की रीत,

क्या सोचेंगे मेरे मन के मीत

शर्म आ रही, घबरा रही

वो भोली भाली नार है,

प्रभु को भोलों से प्यार है

मेरे राम मेरे घर आएंगे...



चुन चुन लायी खट्टे मीठे बेर,

आने में क्यों करते हो प्रभु देर

प्रभु आ रहे, मुस्का रहे,

प्रभु के चरणो में गिर पड़ी,

और असुअन की लागी झड़ी

मेरे राम मेरे घर आएंगे...



असुअन से धोए प्रभु जी के पैर,

चख चख कर के खिला रही थी बेर

प्रभु कह रहे, मुस्का रहे

इक प्रेम के वष में राम है,

और प्रेम का यह परिणाम है

मेरे राम मेरे घर आएंगे...



प्रभु तेरी खातिर अटक रहे थे प्राण,

मुक्ति दे दो मुझको कृपा निधान

लेलो शरण, अपनी चरण

शबरी से बोले राम हैं,

जा खुला तेरे लिए धाम है

मेरे राम मेरे घर आएंगे...



जो कोई ढूंढे प्रभु को दिन और रात,

उसे ढूंढ़ते इक दिन दीनानाथ

हरी को भजो, सुमिरन करो,

‘बिन्नू’ यह निश्चय जान लो,

तुम प्रभु को अपना मान लो

मेरे राम मेरे घर आएंगे...

मारने वाला है भगवान, बचाने वाला है भगवान: भजन (Marne Wala Hai Bhagwan Bachane Wala Hai Bhagwan)

मेरी झोपड़ी के भाग, आज खुल जाएंगे: भजन (Meri Jhopdi Ke Bhag Aaj Khul Jayenge)

श्री विन्ध्येश्वरी स्तोत्रम् (Vindhyeshwari Stotram)

ऐ मुरली वाले मेरे कन्हैया, बिना तुम्हारे.. (Ae Murliwale Mere Kanhaiya, Bina Tumhare Tadap Rahe Hain)

श्री राम भजन (Shri Ram Bhajan)

शिव स्तुति: ॐ वन्दे देव उमापतिं सुरगुरुं (Shiv Stuti: Om Vande Dev Umapatin Surguru)

भजन: बेटा जो बुलाए माँ को आना चाहिए (Beta Jo Bulaye Maa Ko Aana Chahiye)

श्री महालक्ष्मी अष्टक (Shri Mahalakshmi Ashtakam)

राम रस बरस्यो री, आज म्हारे आंगन में (Ram Ras Barsyo Re, Aaj Mahre Angan Main)

शंकर मेरा प्यारा.. माँ री माँ मुझे मूरत ला दे (Shankar Mera Pyara.. Maa Ri Maa Mujhe Murat La De)

भक्ति की झंकार उर के: प्रार्थना (Bhakti Ki Jhankar Urke Ke Taron Main: Prarthana)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 30 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 30)