प्रभु जी तुम संगति सरन तिहारी (Mere Prabhuji Sangati Sharan Tihari)

प्रभु जी तुम संगति सरन तिहारी।

जग-जीवन राम मुरारी॥



गली-गली को जल बहि आयो,

सुरसरि जाय समायो।

संगति के परताप महातम,

नाम गंगोदक पायो॥

॥ प्रभु जी तुम संगति...॥



स्वाति बूँद बरसे फनि ऊपर,

सोई विष होइ जाई।

ओही बूँद कै मोती निपजै,

संगति की अधिकाई॥

॥ प्रभु जी तुम संगति...॥



तुम चंदन हम रेंड बापुरे,

निकट तुम्हारे आसा।

संगति के परताप महातम,

आवै बास सुबासा॥

॥ प्रभु जी तुम संगति...॥



जाति भी ओछी, करम भी ओछा,

ओछा कसब हमारा।

नीचे से प्रभु ऊँच कियो है,

कहि 'रैदास चमारा॥



प्रभु जी तुम संगति सरन तिहारी।

जग-जीवन राम मुरारी॥

श्री बृहस्पतिवार व्रत कथा 2 (Shri Brihaspati Dev Ji Vrat Katha In Hindi Vol2)

कान्हा वे असां तेरा जन्मदिन मनावणा (Kahna Ve Assan Tera Janmdin Manavna)

भोग भजन: जीमो जीमो साँवरिया थे (Jeemo Jeemo Sanwariya Thye)

मैं ढूँढता तुझे था: प्रार्थना (Mai Dhundta Tujhe Tha: Prarthana)

शिवाष्ट्कम्: जय शिवशंकर, जय गंगाधर.. पार्वती पति, हर हर शम्भो (Shivashtakam: Jai ShivShankar Jai Gangadhar, Parvati Pati Har Har Shambhu)

हम राम जी के, राम जी हमारे हैं। (Hum Ram Ji Ke Ram Ji Hamare Hain)

अजब हैरान हूं भगवन! तुम्हें कैसे रिझाऊं मैं। (Ajab Hairan Hoon Bhagawan Tumhen Kaise Rijhaon Main)

रामजी भजन: मंदिर बनेगा धीरे धीरे (Ramji Ka Mandir Banega Dheere Dheere)

भजन: बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया (Brij Ke Nandlala Radha Ke Sanwariya)

मोक्षदा एकादशी व्रत कथा (Mokshada Ekadashi Vrat Katha)

ॐ जय जगदीश हरे आरती (Aarti: Om Jai Jagdish Hare)

आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन: भोग आरती (Aao Bhog Lagao Mere Mohan: Bhog Aarti)