श्री झूलेलाल आरती- ॐ जय दूलह देवा! (Shri Jhulelal Om Jai Doolah Deva)

चेटी चंड जैसे त्यौहारों तथा सिंधी समाज के अन्य कार्यक्रमों में सबसे ज्यादा गाई जाने वाली आरती। भगवान झूलेलाल के प्रत्येक मंदिर में यह आरती सुवह-शाम अवश्य गायी जाती है। भगवान झूलेलाल को लाल साई, उदेरो लाल, वरुण देव, दूलह लाल, दरिया लाल और जिंदा पीर भी कहा जाता है।



ॐ जय दूलह देवा,

साईं जय दूलह देवा ।

पूजा कनि था प्रेमी,

सिदुक रखी सेवा ॥



तुहिंजे दर दे केई,

सजण अचनि सवाली ।

दान वठन सभु दिलि,

सां कोन दिठुभ खाली ॥

॥ ॐ जय दूलह देवा...॥



अंधड़नि खे दिनव,

अखडियूँ - दुखियनि खे दारुं ।

पाए मन जूं मुरादूं,

सेवक कनि थारू ॥

॥ ॐ जय दूलह देवा...॥



फल फूलमेवा सब्जिऊ,

पोखनि मंझि पचिन ।

तुहिजे महिर मयासा अन्न,

बि आपर अपार थियनी ॥

॥ ॐ जय दूलह देवा...॥



ज्योति जगे थी जगु में,

लाल तुहिंजी लाली ।

अमरलाल अचु मूं वटी,

हे विश्व संदा वाली ॥

॥ ॐ जय दूलह देवा...॥



जगु जा जीव सभेई,

पाणिअ बिन प्यास ।

जेठानंद आनंद कर,

पूरन करियो आशा ॥



ॐ जय दूलह देवा,

साईं जय दूलह देवा ।

पूजा कनि था प्रेमी,

सिदुक रखी सेवा ॥

श्री विश्वकर्मा आरती- जय श्री विश्वकर्मा प्रभु (Shri Vishwakarma Ji Ki Aarti)

होता है सारे विश्व का, कल्याण यज्ञ से। (Hota Hai Sare Vishwa Ka Kalyan Yajya Se)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 28 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 28)

मेरो राधा रमण गिरधारी (Mero Radha Raman Girdhaari)

नृसिंह भगवान की आरती (Narasimha Bhagwan Ki Aarti)

सुनो सुनो, एक कहानी सुनो (Suno Suno Ek Kahani Suno)

सकट चौथ पौराणिक व्रत कथा - राजा हरिश्चंद्र.. (Sakat Chauth Pauranik Vrat Katha)

भजन: बृन्दावन का कृष्ण कन्हैया (Brindavan Ka Krishan Kanhaiya Sabki Aankhon Ka Tara)

शिव स्तुति: ॐ वन्दे देव उमापतिं सुरगुरुं (Shiv Stuti: Om Vande Dev Umapatin Surguru)

राम नाम के हीरे मोती, मैं बिखराऊँ गली गली। (Ram Nam Ke Heere Moti Main Bikhraun Gali Gali)

प्रार्थना: तुम्ही हो माता पिता तुम्ही हो (Prayer Tumhi Ho Mata Pita Tumhi Ho )

वंदना: ज्ञान का दान ही सबसे बड़ा हैं (Gyan Ka Daan Hi Sabse Bada Hai)